बुलंदशहर, जेएनएन। लॉकडाउन के चलते दो चरणों में हुआ यूपी बोर्ड उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन गुरुवार शाम पूरा हो गया। अब परीक्षा परिणाम घोषित होने का इंतजार है। उम्मीद है कि जून के अंतिम सप्ताह तक हाईस्कूल और इंटरमीडिएट का रिजल्ट घोषित हो जाएगा। यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षाएं समाप्त होने के बाद 16 मार्च को मूल्यांकन शुरू हुआ और 18 मार्च को कोरोना महामारी के प्रकोप के चलते परीक्षकों ने मूल्यांकन करने से इन्कार कर दिया था। इसके बाद 18 मई तक मूल्यांकन कार्य बंद रहा और शासन के निर्देश पर दोबारा मूल्यांकन कार्य शुरू हुआ।

जिले में पांच मूल्यांकन केंद्रों पर कुल चार लाख 38 हजार 894 उत्तर पुस्तिकाएं जांची गई। गुरुवार शाम मूल्यांकन कार्य पूरा हो गया। अब जिले के 84 हजार से अधिक छात्र-छात्राओं को रिजल्ट आने का इंतजार है। डीआइओएस आरके तिवारी ने बताया कि मूल्यांकन कार्य शांतिपूर्ण संपन्न हो गया है। रिजल्ट बोर्ड घोषित करेगा। उम्मीद है कि जून के अंतिम सप्ताह में रिजल्ट घोषित हो जाएगा।

निर्धारित समय में परीक्षकों ने चेक की कॉपियां

खुर्जा: यूपी बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियों को निर्धारित समय में चेक करने पर परीक्षकों का स्वागत किया गया। साथ ही प्रमाण-पत्र भी दिया गया। खुर्जा के जेएएस इंटर कालेज को यूपी बोर्ड परीक्षाओं का मूल्याकंन केंद्र बनाया गया। जिसमें बीते 19 मई से उत्तर-पुस्तिकाओं के मूल्याकंन का कार्य किया जा रहा था। कोरोना वायरस के चलते शारीरिक दूरी का पालन करते हुए परीक्षक कॉपियों को चेक करने में जुटे हुए थे। उपनियंत्रक मूल्याकंन केंद्र एवं प्रधानाचार्या डा. नरेश शर्मा ने बताया कि परीक्षकों ने अपनी मेहनत और लग्न से हाईस्कूल हिंदी, अंग्रेजी तथा उर्दू की 102090 उत्तर-पुस्तिका निर्धारित समय गुरुवार तक चेक कर दीं। जिस पर परीक्षकों का फूलमाला पहनाते और पुष्पवर्षा करके स्वागत किया गया। साथ ही निर्धारित समय पर कॉपियों को चेक करने पर प्रमाण-पत्र भी दिए गए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस