बुलंदशहर, जेएनएन। केन्द्र सरकार के बैंकों के विलय करने की योजना से बैंक कर्मियों में आक्रोश पनप रहा है। सरकार की नीतियों के विरोध में बैंक कर्मियों ने मोतीबाग में एकत्र होकर प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की।

यूपी बैंक एम्पलाइज यूनियन की बुलंदशहर इकाई के नेतृत्व में ओरियंटल बैंक आफ कामर्स की शाखा के बाहर धरना प्रदर्शन किया। बैंक कर्मचारियों का कहना है कि केन्द्र सरकार दस बैंकों का विलय नहीं कर रही, बल्कि दस बैंक के कर्मचारियों की हत्या कर रही है। 1865 में अस्तित्व में आए बैंकों को केन्द्र सरकार समाप्त कर रही है। बैंक कर्मचारी इसको किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे। जिला मंत्री दीपक वशिष्ठ ने कहा कि सरकार रोजगार देने के बजाए रोजगार समाप्त करने पर जोर दे रही हैं। बैंकों की हड़ताल से उपभोक्ताओं को भी परेशानी उठानी पड़ी। हालांकि अधिकांश बैंकों में लेनदेन का कार्य सुचारू रुप से किया गया। इस मौके पर ब्रजेश कुमार, अजय तोमर, सोनू लोधी, संजय समेत कई कर्मचारी मौजूद रहे।

संसू, बुगरासी: हड़ताल के चलते मंगलवार को कस्बे का एक बैंक बंद रहा। इससे कैश के लिए बैंक उपभोक्ता परेशान रहे। कस्बे में दो बैंकों की शाखा हैं। मंगलवार को हड़ताल के चलते इलाहाबाद बैंक बंद रहा। त्योहारी सीजन के चलते उपभोक्ता कैश के लिए परेशान रहे। प्रभात कुमार, राजीव चौहान, तुषार आदि उपभोक्ताओं ने बताया कि त्योहार का समय चल रहा है और बैंकों की हड़ताल के चलते परेशानी हुई।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप