बुलंदशहर, जेएनएन। डीएम की फटकार के बाद ब्लाक प्रशासन को फसल नष्ट कर रहे बेसहारा गोवंशों की सुध आई। ग्रामीणों की मदद से सलेमपुर कायस्थ गांव में चले अभियान के दौरान 45 गोवंशों को पकड़ा गया। उन्हें गोशाला भिजवाना का प्रबंध न होने पर पंचायत घर में बंद किया गया है।

गांव सलेमपुर कायस्थ में निराश्रित गोवंशों द्वारा पहुंचाए जा रहे फसलों को नुकसान व बार-बार शिकायत के बावजूद ब्लाक प्रशासन द्वारा सुध नहीं लिए जाने बुधवार को आक्रोश फुट पड़ा था। रात में ग्रामीणों ने खेतों से 35 से अधिक गोवंशों को दौड़ा कर बीआरसी स्कूल में बंद कर दिया था। जिसकी जानकारी मिलने के बाद भी ब्लॉक प्रशासन ने कोई सुध नहीं ली थी। जिन्हें गुरुवार की सुबह परिसर में स्थित स्कूल के शिक्षकों व कर्मियों ने किसी तरह बाहर निकाला था। मामला संज्ञान में आने पर शुक्रवार को ब्लॉक का निरीक्षण करने पहुंचे डीएम रवीन्द्र सिंह ने बीडीओ व एडीओ पंचायत को जमकर फटकार लगाई थी। गांवों में घुम रहे निराश्रित गोवंशों को पकड़वाकर गोशाला भिजवाने की रिपोर्ट देने का निर्देश दिया था। डीएम की फटकार के बाद शनिवार को गांव सलेमपुर कायस्थ में ग्रामीणों की मदद से खेतों में दिन भर चले अभियान में 45 गोवंश पकड़े गए। जिन्हें गोशाला भिजवाने का प्रबंध नहीं हो सका। जिस कारण गोवंशों को गांव के पंचायत घर में बंद किया है। ग्रामीणों ने बताया कि सायं तक गेसूपुर गोशाला में गोवंशों को भिजवाने का आश्वासन फोन पर ब्लॉक अधिकारी देते रहे, लेकिन गोवंशों को गोशाला भिजवाने के लिए कोई वाहन नहीं पहुंचा। जिस कारण गोवंशों के भूख व प्यास का संकट गहरा गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस