मनरेगा में सृजित किए जाएंगे 40 लाख से ज्यादा मानव कार्य दिवस

बिजनौर, जागरण टीम। जिले में इस बार मनरेगा में 40 लाख से अधिक मानव कार्य दिवस सृजित किए जाएंगे। मनरेगा में पंजीकृत पौने तीन लाख श्रमिकों को इसमे काम मिलेगा। काम करने वाले श्रमिकों को इसका भुगतान भी दिया जाएगा। गांवों के श्रमिकों का शहरों में पलायन रोकने के लिए गांवों में मनरेगा योजना संचालित की जा रही है। योजना में पंजीकृत श्रमिकों को गांवों में ही काम दिया जाता है। आमतौर पर ये काम कच्चे रास्तों की मरम्मत, तालाबों के जीर्णोद्धार आदि से जुड़ा होता है। मनरेगा में काम करने वालों को एक दिन के काम के बदले 213 रुपये का भुगतान मिलता है। मनरेगा में पिछले कुछ सालों के कार्य के आधार पर मानव कार्य दिवस सृजित किए जाते हैं। वैसे तो हर मजदूर को गांवों में 100 दिन काम देने का प्रावधान है लेकिन न तो मजदूर इतना काम मांगते हैं और न ही सबके लिए यह संभव है। जिले में पंजीकृत 2.75 लाख श्रमिकों के लिए इस साल 40 लाख से अधिक कार्य दिवस सृजित करने का लक्ष्य रखा गया है। इस बार जिले में अमृत सरोवर तालाबों को पुनर्जीवित करने पर काम किया जा रहा है। यानि श्रमिकों को काम की कोई कमी नहीं रहेगी। --------- मनरेगा श्रमिक व कार्य का लक्ष्य ब्लॉक-----श्रमिक----कार्य दिवस अफजलगढ़--26922---323649 अल्हैपुर----16727---323820 स्योहारा-----18989---313800 हल्दौर-----24234---321183 जलीलपुर----32303--436621 किरतपुर----16845---214510 कोतवाली---41517---547054 मोहम्मदपुर देवमल-23423--383943 नजीबाबाद----30302---490915 नहटौर-----19085----291632 नूरपुर------2465----413477 कुल------275005--4060604 नोट:आंकड़े विकास भवन से लिए गए हैं। ------ इन्होंने कहा... मनरेगा श्रमिकों के लिए मानव कार्य दिवस सृजित किए जा रहे हैं। गांवों में इस समय कई गांवों में मनरेगा श्रमिकों को कार्य दिया जा रहा है। समय से भुगतान भी कराया जा रहा है। विजय यादव, उपायुक्त मनरेगा

Edited By: Jagran