पैदल नदी पार करते लोगों को देख गुस्साए राज्यमंत्री दिनेश खटीक

मेन खबर----पैदल नदी पार करते लोगों को देख गुस्साए राज्यमंत्री दिनेश खटीक

बिजनौर, जेएनएन। पहाड़ों पर हुई बारिश से नदियों का जलस्तर बढ़ गया है। इससे जिले के विभिन्न इलाकों में बाढ़ के हालात बनने शुरू हो गए हैं। मालन नदी में पानी बढ़ने और लोगों के परेशान होने की सूचना पर शुक्रवार को जलशक्ति राज्यमंत्री दिनेश खटीक रावली गांव पहुंचे जहां नदी का पानी उफनाकर कई गांवों के रास्ते के ऊपर से बह रहा था। लोग नाव की मदद से या जीवन को संकट में डालकर पैदल ही नदी पार करते मिले। यह देख गुस्साए राज्यमंत्री ने वहीं से लखनऊ में सिंचाई विभाग के प्रमुख अभियंता, मेरठ और मुरादाबाद के मुख्य अभियंता तथा बिजनौर के एक्सईएन से को फोन पर फटकार लगाई। सरकार द्वारा बाढ़ से बचाव के लिए पहले से ही धनराशि उपलब्ध करा दिए जाने के बावजूद इंतजाम न होने पर से राज्यमंत्री खासे नाराज थे। उन्होंने जिलाधिकारी उमेश मिश्रा से भी फोन पर बाढ़ से संबंधित जानकारी ली। साथ ही निर्देश दिया कि मालन नदी की स्थिति का निरीक्षण कर बाढ़ के पानी से बंद हुए मार्ग को जल्द शुरू किया जाए। बाढ़ से जन और पशु हानि हुई तो डीएम और एसपी होंगे जिम्मेदार राज्यमंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री ने खुद दो दिन पहले बाढ़ नियंत्रण और बचाव के संबंध में वीडियो कांफ्रेंसिंग से प्रदेश भर के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की थी। अब बाढ़ के पानी से यदि कहीं जनहानि व पशु हानि होती है तो उसके लिए डीएम और एसपी जिम्मेदार होंगे। राज्यमंत्री ने कहा कि बिजनौर में अफसरों ने बाढ़ से बचाव के लिए कोई काम नहीं किया है। पांच साल में हुए करोड़ों के खर्च की कराएंगे जांच राज्यमंत्री ने कहा कि बिजनौर तथा इससे सटे जनपदों में बाढ़ से बचाव के अस्थायी इंतजाम के लिए पिछले पांच वर्षों में 25 करोड़ से अधिक राशि खर्च की जा चुकी है। जिसके संबंध में दैनिक जागरण ने भी अपने अभियान में सवाल उठाया है। पांच साल के खर्च की जांच होगी। घोटाला साबित होने पर संबंधित अफसरों से इस राशि की वसूली कराई जाएगी। आज आप देखिए, कल मैं निरीक्षण करूंगा राज्यमंत्री ने जिलाधिकारी उमेश मिश्रा से भी मालन नदी के किनारे पर खडे होकर ही बात की। उन्हें बताया कि लोग परेशान हैं और मेरे सामने ही पैदल नदी पार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आज आप सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पहुंचकर इंतजाम करा दें। शनिवार को मैं निरीक्षण और अफसरों के साथ समीक्षा करूंगा।

Edited By: Jagran