नांगल सोती: ग्राम सुंगरपुर बेहड़ा के प्राचीन शिव मंदिर में असामाजिक तत्वों ने भगवान शिव की मूर्ति खंडित कर दी। कुछ मूर्तियां नाले में फेंक दीं। इससे गुस्साए ग्रामीणों ने बालावाली-बेहड़ा मार्ग जाम कर हंगामा किया। पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों ने ग्रामीणों को समझाकर शांत किया। एहतियातन तनावपूर्ण शांति के बीच पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

पुजारी पवन भगत गुरुवार रात्रि करीब 10 बजे मंदिर के कपाट बंद करके घर चले गए थे। शुक्रवार सुबह वह मंदिर पहुंचे तो खिड़की का शीशा टूटा था। भगवान शिव की मूर्ति का एक हाथ अलग था, जबकि शिव परिवार की मूर्तियां गायब थीं। पुजारी ने ग्राम प्रधान राजपाल ¨सह और मंदिर कमेटी अध्यक्ष ऋषिपाल ¨सह को सूचना दी। इधर-उधर तलाशा तो शिव परिवार की मूर्तियां मंदिर के निकट नाले में पड़ी मिलीं। मौके पर मंदिर में बम ब्लास्ट की चेतावनी लिखे पर्चे भी मिले।

घटना का पता चलते ही ग्रामीण कैलाश, जो¨गदर ¨सह, विरेंद्र ¨सह, विनोद कुमार, सुभाष ¨सह, चरण ¨सह, खिलेंदर, साधुराम, लखीराम वर्मा, चंद्रपाल ¨सह, शुभम, ऋतिक, बलजीत, डा. महीपाल, फूल ¨सह, सुमित, मोहित समेत सुंगरपुर बेहड़ा, तिसोतरा आदि गांवों के लोग मौके पर पहुंचे और बालावाली-बेहड़ा मार्ग पर जाम लगा दिया।

एएसपी दिनेश कुमार, सीओ अरुण कुमार, तहसीलदार राधेश्याम शर्मा एवं थाना प्रभारी निरीक्षक सत्येंद्र कुमार पुलिस, पीएसी के साथ गांव पहुंचे और ग्रामीणों को समझाकर शांत किया, लेकिन ग्रामीणों ने असामाजिक तत्वों पर कार्रवाई की मांग की। पुजारी की तहरीर पर अज्ञात में रिपोर्ट दर्ज की गई है। एसपी सिटी दिनेश कुमार ने बताया कि जल्द ही शरारती तत्वों की गिरफ्तारी हो जाएगी।

गांव छोड़ने की चेतावनी

नांगलसोती: शिव मूर्ति को खंडित करने की घटना को अंजाम देने वाले शरारती तत्वों ने दो संप्रदायों में तनाव पैदा करने की कोशिश की। मंदिर परिसर से पुलिस को जो पत्र मिला, उससे कुछ ऐसा ही इशारा मिलता है। हालांकि पत्र में लिखी गई भाषा स्थिति ज्यादा स्पष्ट नहीं हो सकी, लेकिन पुलिस पत्र से जुड़े विभिन्न पहलुओं की जांच में जुट गई है। पत्र में कहा जा रहा है कि समुदाय विशेष के लोगों से 40 लाख रुपये इकट्ठे कर जमील नाम के एक व्यक्ति को दिए। जमील ने दो लाख रुपये में एक लड़का बाहर से मंगवाया। उसने मूर्ति खंडित की। पत्र में गुर्जर परिवारों को गांव से चले जाने की धमकी भी दी गई।

जांच में लगी रहीं कई टीम

नांगलसोती: सुंगरपुर बेहड़ा में मूर्ति खंडित होने की घटना को पुलिस ने गंभीरता से लिया है। कई जांच एजेंसियां इस मामले की जांच में लगी हैं। थानाध्यक्ष सतेंद्र कुमार ने बताया कि डॉग स्क्वायड, ¨फगर¨प्रट एक्सपर्ट, फील्ड यूनिट, फोरेंसिक सहित कई टीमें जांच में लगी हुई हैं। यह टीमें घटना के हर पहलू को गंभीरता से देख रही हैं।

आनन फानन में कराई मूर्ति स्थापित

नांगलसोती: सुंगरपुर बेहड़ा में शरारती तत्वों द्वारा तोड़ी गई मूर्ति के स्थान पर पुलिस,प्रशासन ने आनन-फानन में नई मूर्ति शिव मंदिर में स्थापित करा दी है। इस दौरान बड़ी संख्या में ग्रामीण मंदिर परिसर में मौजूद रहे। शिव परिवार की मूर्तियां पुन: स्थापित होने के बावजूद गांव में तनाव है।

-पांच वर्ष पहले भी हुआ था विवाद

नांगलसोती: सुंगरपुर बेहड़ा में वर्ष 2013 में प्राचीन शिव मंदिर पर लाउड स्पीकर को लेकर दूसरे संप्रदाय के लोगों ने आपत्ति की थी। दोनों संप्रदायों में तनातनी को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने कई लोगों के खिलाफ कार्रवाई की थी। इसके बाद गांव में वर्ष 2017 में भी एक सिद्धपीठ को लेकर दोनों संप्रदायों के लोग आमने-सामने आ गए थे। तब भी गांव का माहौल बिगड़ने से बचा था।

Edited By: Jagran