बिजनौर, जेएनएन।

जिला अस्पताल में महिला की मौत को लेकर परिजनों ने जमकर हंगामा किया। आरोप है कि डॉक्टर ने इलाज में लापरवाही की है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने परिजनों को समझा-बुझाकर शांत किया।

नगीना थाना क्षेत्र के गांव हमजापुर कठेर निवासी रामकली पत्नी अमर सिंह अपनी भतीजे राकेश निवासी आलमपुर गढ़ी थाना किरतपुर के यहां रहती थी। बीस दिन पूर्व वृद्धा के हादसे में दोनों पैरों में चोट लग गई थी। शुक्रवार सुबह सात बजे वृद्धा को खून की उल्टी आई। परिजन उसे कितरपुर सीएचसी ले गए, जहां उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। शुक्रवार शाम उपचार के दौरान वृद्धा की मौत हो गई। इस पर परिजनों ने इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। मृतका के भतीजे राकेश ने बताया कि करीब तीन बजे जिला अस्पताल से खाना खाने गया था। लौटने के बाद पता चला कि बुआ की मौत हो गई है। मौत से पूर्व डॉक्टर ने तीन इंजन जल्दबाजी में लगाए। जिसके बाद उन्होंने दम तोड़ दिया। सूचना पर एसएसआई नरेंद्र गौड़ मौके पर पहुंच गए। परिजनों को समझा-बुझाकर शांत किया। एसएसआई का कहना है कि इस संबंध में कोई तहरीर नहीं दी गई है। परिजन बिना किसी कानूनी कार्रवाई के शव को ले गए।

Posted By: Jagran