बिजनौर, जेएनएन। घर से चाचा की बोलेरो लेकर निकले एक सर्राफ का शव बोलेरो की ड्राइविंग सीट पर पड़ा मिला। उसके सीने में गोली लगी थी। पास में ही तमंचा भी पड़ा था। पुलिस अभी यह तय नहीं कर पाई है कि सर्राफ ने आत्महत्या की है या फिर उसकी हत्या हुई है। एसपी ने जांच के आदेश दिए हैं।

शनिवार सुबह करीब 10:30 बजे पीआरवी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने पूर्वी गंगनहर बाईपास मार्ग पर खड़ी बोलेरो की ड्राइवर सीट पर एक युवक का शव लहूलुहान अवस्था में पड़ा देखा। युवक के पास से मिले पर्स के आधार पर पुलिस ने शव की पहचान सुभाष नगर निवासी 30 वर्षीय सर्राफ अमित वर्मा पुत्र सुदेश वर्मा के रूप में की। पिता सुदेश वर्मा ने पुलिस को बताया कि अमित शुक्रवार शाम करीब चार बजे चाचा हितेश वर्मा की बोलेरो लेकर घर से गया था। रात में उसका मोबाइल स्विच ऑफ था। अनुमान था कि कहीं रिश्तेदारी में चला गया होगा, सुबह लौट आएगा।

एसपी डॉ. धर्मवीर सिंह, एसपी सिटी लक्ष्मी निवास मिश्र भी डॉग स्क्वायड और फोरेंसिक टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। एसपी ने बताया कि अमित के सीने के बाईं और गोली लगी थी। तमंचा पास में पड़ा था। खून सूख चुका था और चीटिंया चल रही थीं। अनुमान है कि युवक की मौत करीब 14 घंटे पहले हो चुकी थी। युवक ने आत्महत्या की है या उसकी हत्या हुई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। पुलिस ने मौके से तमंचा, मोबाइल, पर्स आदि सामान कब्जे में लिया है। करीब सात-आठ महीने पहले अमित ने प्रेमनगर देहरादून निवासी तलाकशुदा मीनाक्षी से दूसरी शादी की थी। मीनाक्षी की एक बेटी है, जो उसके ससुरालियों के पास है। इसको लेकर विवाद चल रहा है। पुलिस मृतक के स्वजन से पूछताछ कर रही है।

पत्नी के नाम पर खोला थी ज्वैलर्स की दुकान

अमित की पहली पत्नी की मौत हो चुकी है। पहली पत्नी से छह और चार साल के दो बच्चे उसके साथ ही रहते थे। उसने दूसरी पत्नी मीनाक्षी के नाम से करीब एक-डेढ़ महीने पहले ज्वैलर्स की दुकान खोली थी।

अमित राइट हैंड था या लेफ्ट हैंड

हत्या और आत्महत्या की गुत्थी सुलझाने में जुटी पुलिस को सुदेश वर्मा ने बताया कि अमित राइट हैंड था। इससे यह तो स्पष्ट हो गया कि दाहिने हाथ से सीने के बाईं और गोली मारी जा सकती है, लेकिन तमंचा बाईं और दो सीटों के बीच में गिरना, मृतक की दोनों बाजू खुली होना और सिर खिड़की की तरफ झुका होना, हत्या की आशंका का जन्म दे रहा है।

काफी देर तक सकते में रही पुलिस

जिस बोलेरो में अमित का शव मिला था। उसके शीशे पर उत्तर प्रदेश सरकार लिखा था और गाड़ी में हूटर भी लगा था। जिस पर काफी देर तक पुलिस सकते में रही। बाद में पता चला कि यह गाड़ी कुछ समय पहले वाणिज्य कर विभाग में कांट्रेक्ट पर लगी हुई थी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस