बिजनौर, जेएनएन। कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए अपने आसपास साफ-सफाई रखने की बात कही जा रही है, लेकिन नजीबाबाद में स्थानीय प्रशासन और क्षेत्र के जिम्मेदारों को इससे कोई सरोकार नजर नहीं आ रहा। आदर्शनगर बिजलीघर के निकट नाले से काफी कूड़ा-करकट निकालकर मार्ग पर डाल दिया गया है। कई दिन बाद भी कचरा नहीं उठने से आसपास काफी दुर्गंध फैल रही है। जिससे लोग परेशान हैं।

नगर की काफी आबादी का गंदा पानी जिस नाले से होकर नगर क्षेत्र से बाहर जाता है, वह नाला आदर्शनगर के घनी आबादी क्षेत्र से होकर गुजरता है। सीकेआइ चौराहे से रेलवे मालगोदाम संपर्क मार्ग से होकर आदर्शनगर की आबादी को जोड़ने वाले संपर्क पर आदर्शनगर बिजलीघर के निकट नाले पर पुलिया बनी है। पिछले कई महीनों से पुलिया क्षेत्र में नाले में काफी कूड़ा-करकट जमा होने से नाला अवरुद्ध था। नाले की सफाई नहीं होने से दिनोंदिन हालात बदतर हो रहे थे। लोगों के कई बार मांग करने के बाद नाले से गंदे पानी निकासी सुचारू करने के लिए सफाई तो करा दी गई, लेकिन नाले से काफी मात्रा में निकले कचरे को सड़क पर ही डाल दिया गया।

कोरोना महामारी से जूझ रहे लोगों को स्वच्छ वातावरण नहीं मिल पा रहा है। क्षेत्रवासियों नौबहार सिंह, रवि कुमार, अरुण कुमार, अवधेश शर्मा, जितेंद्र राजपूत आदि का कहना है कि आवश्यक कार्य के लिए घर से बाहर निकलने पर उन्हें जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे मिल रहे हैं। आदर्शनगर बिजलीघर के पास तो हालात ज्यादा खराब हैं। नागरिकों ने प्रशासन से विशेष स्वच्छता अभियान चलाने और सैनिटाइजेशन कराने की मांग की।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप