बिजनौर, जेएनएन। भारत सरकार के जलशक्ति अभियान के तहत देवप्रयाग से गंगा स्वच्छता का संदेश लेकर चला दल यूपी में प्रवेश कर गया। बिजनौर में दल का पहला पड़ाव है। गंगा संदेश दल का बिजनौर गंगा बैराज पर भव्य स्वागत किया गया।

गंगा स्वच्छता संदेश दल लेकर पहुंचे विग कमांडर परमवीर सिंह ने कहा कि यदि गंगा का जल निर्मल एवं स्वच्छ रखना है, तो किनारों के बसें गांवों में सिगल यूज प्लास्टिक एवं पालीथिन का इस्तेमाल पूर्ण रूप से बंद कर खेती में रसायनिक उवर्रकों पर भी रोक लगानी होगी।

शनिवार को शाम सात बजे दल बिजनौर बैराज पहुंचा, जहां जलशक्ति अभियान के भारत सरकार के सचिव यूपी सिंह, डीएम रमाकांत पांडेय और सीडीओ प्रवीण मिश्र समेत प्रशासनिक अधिकारियों एवं आम जनमानस ने सदस्यों का माल्यार्पण कर स्वागत किया।

बैराज स्थित शीशमहल पर पत्रकारवार्ता में दल का नेतृत्व कर रहे विग कमांडर परमवीर सिंह ने कहा कि वह 2013, 2015 में देवप्रयाग से लेकर गंगा सागर तक गंगा किनारे बसें सैकड़ों के गांवों के हजारों ग्रामीणों को गंगा स्वच्छ बनाने के लिए जागरूक कर चुके हैं। एक बार फिर वह 10 अक्टूबर से देवप्रयाग से गंगासागर तक गंगा की स्वच्छता संदेश यात्रा लेकर निकले हैं। यात्रा का उद्देश्य लोगों को गंगा की स्वच्छता को लेकर जागरूक करना है। उन्होंने कहा कि देवप्रयाग से लेकर बिजनौर बैराज तक गंगा का पानी पूरी तरह से शुद्ध है।

जलशक्ति अभियान के सचिव यूपी सिंह ने कहा कि गंगा स्वच्छता के प्रति केंद्र और यूपी सरकार गंभीर है। गंगा जल की देवप्रयाग से लेकर गंगा सागर तक मानीटिरिग की जा रही है। वहीं दल में शामिल केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह की पुत्री सुहासिनी शेखावत ने कहा कि गंगा की भारतीय संस्कृति में अहम भूमिका है और गंगा को स्वच्छ रखना प्रत्येक व्यक्ति का दायित्व है। डीएम रमाकांत पांडेय ने कहा कि गंगा किनारे जिले के 21 गांव बसें हैं, जिन्हें जागरूक किया जा रहा है।

विग कमांडर परमवीर सिंह, जलशक्ति अभियान के सचिव यूपी सिंह, डीएम रमाकांत पांडेय और सीडीओ प्रवीण मिश्र समेत प्रशासनिक अधिकारियों एवं आम जनमानस ने विधिवत पूजा-अर्चना के बाद गंगा की आरती उतारी। गंगा स्वच्छता संदेश दल में विग कमांडर परमवीर सिंह के अलावा स्क्वाड्रन कमांडर दीप्ति, प्रवीण कुमार, शहाबुद्दीन, नितिन समेत नौ सदस्य शामिल थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप