जासं, सीतामढ़ी (भदोही) : कोनिया क्षेत्र की उपेक्षा से युवा आंदोलित हो उठे हैं। आक्रोशित ग्रामीण सात मार्च को धनतुलसी से ज्ञानपुर तक पैदल यात्रा करेंगे। गंगा नदी की धाराओं से तीन तरफ से घिरा कोनिया क्षेत्र विकास से लगभग अछूता रह गया है। जनप्रतिनिधियों की ओर से वादा खिलाफी का आरोप लगाया। स्वास्थ, शिक्षा, परिवहन, बेरोजगारी व गंगा कटान जैसे समस्याओं से जूझ रहे क्षेत्र के लोगों की समस्या पर प्रशासन की नजर नहीं पड़ रही है। कहा कि बारिश के दस्तक देते ही क्षेत्र के गंगा तटों पर बसे गांव के लोगों की नींद उड़ जाती है, कारण यह कि बाढ़ के पानी से कटान में कब उनकी फसल चौपट हो जाए कोई भरोसा नहीं। ग्रामीणों का कहना है कि बीस ग्राम पंचायत के 80 हजार आबादी वाले क्षेत्र में स्वास्थ्य के नाम पर महज एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है। जो संसाधनों के अभाव में लाभाकारी नहीं साबित हो रहा है। शिक्षा, परिवहन आदि का दंश झेल रहे ग्रामीणों ने कई बार सुविधाएं मुहैया कराने के लिए अधिकारियों को पत्र भेजकर मांग की लेकिन सुनवाई नहीं हुई। क्षेत्र के विकास व आवागमन के लिए सबसे जरूरी गंगा पर पुल को लेकर केवल चर्चा तक ही जन प्रतिनिधियों का प्रयास सीमित रह जाता है। जिला मुख्यालय तक प्रस्तावित पदयात्रा के उपरांत आंदोलनकारियों की ओर से मुख्यमंत्री को संबोधित 50 हजार ग्रामीणों के संयुक्त हस्ताक्षर का पत्रक सौंपा जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस