जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर(भदोही) जिले में सब कुछ अच्छा रहा तो मेडिकल कालेज के निर्माण का रास्ता साफ हो जाएगा। चिकित्सा संस्थान लखनऊ ने कालेज की मान्यता के लिए अस्पतालों की स्टेटस रिपोर्ट मांगी है।

सीएमओ संतोष कुमार चक ने महाराजा चेतसिंह जिला अस्पताल और महाराजा बलवंत सिंह अस्पताल में संसाधन और ओपीडी आदि की जानकारी मांगी है। डीएम आर्यका अखौरी ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर भावी रणनीति व तैयारियों पर विमर्श किया।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के लिए जनपद के लोगों को पड़ोसी जनपद प्रयागराज और वाराणसी जाना होता था। यही नहीं गंभीर बीमारी से जूझ रहे मरीजों और पढ़ाई के लिए छात्रों को परेशान होना पड़ता था। शासन ने पीपीपी माडल पर जिले में मेडिकल कालेज को संचालित करने की योजना बनाई है। इसके लिए पहले ही जिलाधिकारी से भूमि आदि की जानकारी मांगी गई थी।

तत्कालीन जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद ने भूमि अधिग्रहित कर रिपोर्ट भेज दी है। कालेज निर्माण की कवायद बीच में कुछ धीमी पड़ गई थी लेकिन इधर दो दिनों से शासन ने इसे गंभीरता से लिया है। महाविद्यालय की मान्यता के लिए स्वास्थ्य निदेशालय ने अस्पतालों की स्टेटस रिपोर्ट तलब की है। सीएमओ ने बताया कि स्टेटस रिपोर्ट में अस्पतालों में बेड, प्रतिदिन आने वाले मरीजों की संख्या आदि शामिल रहेगा।

----------------

यहां पर है भूमि

जिलाधिकारी ने मेडिकल कालेज के लिए जोराई में 24 बीघा और केशवपुर सरपतहां में नौ बीघा 10 विस्वा भूमि अधिग्रहित की है। इसके साथ ही चक गंगाधर में सात एकड़ भूमि सुरक्षित है। यह भूमि संयुक्त चिकित्सालय के नाम पर आरक्षित की गई है। भूमि की रिपोर्ट भेजी जा चुकी है। जिला प्रशासन की ओर से इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है।

------------------

जिले के लिए होगी बड़ी उपलब्धि

काशी नरेश राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय ज्ञानपुर को अभी तक भले ही विश्वविद्यालय का दर्जा नहीं मिल पाया है लेकिन मेडिकल कालेज का निर्माण हो जाने से जिले के लिए बड़ी उपलब्धि होगी। मेडिकल कालेज के संचालन से इलाज के साथ ही साथ अन्य चिकित्सकीय सुविधा को लेकर लोगों को इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा।

Edited By: Jagran