जूनियर इंजीनियरों ने कार्य बहिष्कार कर किया प्रदर्शन

-संसद में इलेक्ट्रिसिटी अमेंडमेंड बिल प्रस्तुत करने का विरोध

-बिल पारित किया तो होगा अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार

जागरण संवाददाता, भदोही : संसद में इलेक्ट्रिसिटी अमेंडमेंड बिल-2022 प्रस्तुत करने के विरोध में आल इंडिया फेडरेशन आफ पावर डिप्लोमा इंजीनियर्स के आह्वान पर व राज्य विद्युत परिषद जूनियर इंजीनियर संगठन उत्तर प्रदेश के केंद्रीय नेतृत्व के निर्देशानुसार सोमवार को जनपद के समस्त अवर अभियंता एवं प्रोन्नत सहायक अभियंताओं ने हरियावं स्थित अधीक्षण अभियंता कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन किया। बिल प्रस्तुत करने का विरोध करते हुए कार्य बहिष्कार किया गया। निर्णय लिया गया कि बिल पारित किया गया तो जूनियर इंजीनियर, प्रोन्नत सहायक अभियंता समेत जनपद के समस्त विद्युतकर्मी संगठन के केंद्रीय कार्यकारिणी के निर्देशन पर अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार करेंगे।

संगठन के क्षेत्रीय अध्यक्ष ईश्वर सरन सिंह ने कहा बिजली संविधान की समवर्ती सूची में है। जिसका अर्थ यह होता है कि बिजली के मामले में कानून बनाने में केंद्र और राज्य का बराबर का अधिकार होना चाहिए। जबकि इस बिल पर केंद्र सरकार ने किसी भी राज्य से सुझाव नहीं मांगा गया। इसे आठ अगस्त को लोकसभा में रख कर पारित कराने की कोशिश है जो संसदीय परंपरा का खुला उल्लंघन है, साथ ही देश के संघीय ढांचे पर चोट है। इस दौरान लोगों ने जमकर नारेबाजी की। इस संबंध में अधीक्षण अभियंता को पत्रक सौंपा गया। अध्यक्षता विनोद यादव ने एवं संचालन सचिव अभिषेक प्रजापति ने किया। जयकार पटेल, कुंवर ज्योति प्रकाश, प्रमोद चौहान, हरिशंकर कुशवाहा, नंदलाल बरनवाल, संजय यादव, रविंद्र पाल, धीरज मिश्रा, उमेश गौतम सहित जनपद के समस्त अवर अभियंता, प्रोन्नत सहायक अभियंता व कर्मचारी उपस्थित थे।

Edited By: Jagran