जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर (भदोही) : भीषण गर्मी व तीखी धूप ने आम जनजीवन को बेहाल कर दिया है। सुरक्षा को लेकर लोग तमाम उपाय कर रहे हैं। मवेशियों की देखभाल में भी सावधानी आवश्यक है। लापरवाही मवेशी संग पालकों की दिक्कत बढ़ा देगी। जहां इलाज पर आने वाला खर्च बढ़ेगा वहीं दुग्ध उत्पादन प्रभावित होने से आर्थिक क्षति भी होनी।

क्या बरतें सावधानी

- मवेशियों को अधिक देर तक धूप में न छोड़ें।

- चराने के लिए सुबह-शाम ही छोड़ने का प्रयास करें।

- दिन में दो बार सुबह और शाम नहलाएं।

- पशुशाला छायादार स्थान पर व हवादार बनवाएं।

- हरा चारा व पौष्टिक आहार देना लाभप्रद होगा।

----------

क्या पड़ेगा सेहत पर प्रभाव

- उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा. जेडी सिंह ने बताया कि गर्मी के समय पशुओं के शरीर का तापमान बढ़ जाता है। शरीर में पानी की कमी से गोबर रुकने की समस्या होती है। जो पशुओं के लिए घातक है। अधिक देर तक धूप में छोड़ने से उनमें हीट स्ट्रोक की भी समस्या आ सकती है। इसके साथ ही शरीर का तापमान बढ़ने से दुग्ध उत्पादन भी प्रभावित होता है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप