मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर(भदोही): जनपद के नोडल अधिकारी एवं ज्वाइंट सेक्रेटरी गृह मंत्रालय भारत सरकार

श्रीप्रकाश ने कहा कि वर्षा जल संचयन और भू-जल संभरण के जरिए पेयजल की सुरक्षा हो सकती है। जल शक्ति अभियान की तैयारियां पूर्ण करके इन पर कार्य शुरू किया जाए, ताकि जल का संचयन किया जा सके। सूखे तालाबों को जल से भरने के लिए क्षमता भी बढ़ाई जाए। जिससे यह तालाब हमेशा पानी से भरे रहें और भूमिगत जल स्तर में सुधार लाया जा सके।

भदोही ब्लाक सभागार में आयोजित गोष्ठी में उन्होंने कहा कि इस अभियान की निगरानी स्वयं प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा की जा रही है। इसलिए जिला में इस अभियान की सफलता के लिए कार्य योजना शीघ्र तैयार की जाए, ताकि मानसून सीजन के दौरान इस कार्य योजना का क्रियान्वयन करके इसे अमलीजामा पहनाया जा सके। पानी का सरंक्षण और बरसात के पानी का संचय, परम्परागत जल संसाधनों व तालाबों का जीर्णोंद्वार, पानी रीचार्ज के लिए बोरवेल का दोबारा उपयोग करना, वाटर शैड को विकसित करना और सघन पौधरोपण आदि पर विशेष कार्य किया जाए। जल शक्ति अभियान के प्रति जागरूक करने के लिए प्रतियोगिता, पोस्टर मेकिग, स्लोगन व मैराथन के कार्यक्रम करवाए जाए। जल संरक्षण को लेकर ग्रामीण क्षेत्र व शहरों में योजनाबद्ध तरीके से जल संग्रहण, हरित क्षेत्र विस्तार और जागरूकता अभियान के समन्वय के साथ-साथ लक्ष्य निर्धारित किए जाएंगे। कहा कि जल संचयन के लिए एक्शन प्लान तैयार करें तथा उसे अपलोड भी करें। इस मौके पर जिलाधिकारी राजेन्द्र प्रसाद, डायरेक्टर आशीष कुमार, डिप्टी डायरेक्टर योगेश, जिला विकास अधिकारी जयकेश त्रिपाठी आदि थे।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप