जागरण संवाददाता, मऊ : मुहम्मदाबाद गोहना तहसील के वलीदपुर नगर पंचायत के बिचलापुरा मुहल्ले में रसोई गैस सिलेंडर के रिसाव से हुए हादसे में घायल होकर जिला अस्पताल पहुंचने वालों का सिलसिला दूसरे दिन भी जारी रहा। घर के कई सदस्यों के घायल हो जाने और बाकी के ज्यादा घायलों के तीमारदारी में चले जाने के चलते हादसे की शिकार ऐसी कई महिलाएं दूसरे दिन जिला अस्पताल पहुंची जो अपनी चोट और दर्द छिपाए घरों में ही सिसक रही थीं। एक रात बीतने के बाद जब दर्द और सूजन ज्यादा हो गई तो ज्यादा चोट की आशंका में इन महिलाओं को भी जिला अस्पताल आना पड़ा। उधर, घायलों की एक-एक रिपोर्ट और इलाज पर जिला प्रशासन की पैनी नजर बनी हुई है।

जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में घटना के दिन ही आकर भर्ती हुईं 14 वर्षीय संजना विश्वकर्मा(जिसके घर में रसोई गैस का रिसाव हुआ) पुत्री स्व छोटू विश्वकर्मा एवं वलीदपुर में अपनी बहन के घर आकर हादसे का शिकार होकर उसी दिन भर्ती हुई 25 वर्षीय सोनी विश्वकर्मा निवासी बनियापार से मुख्य चिकित्साधिकारी डा. सतीशचंद्र सिंह ने स्वयं पूछताछ किया। इस दौरान उन्होंने सीएमएस डा. बृजकुमार व घायलों की देखभाल में लगे डाक्टरों से कौन-कौन सी दवाएं दी गईं, क्या-क्या इंजेक्शन दिए गए आदि की जानकारी ली। दोनों घायलों के एक्सरे एवं सिटी स्कैन की रिपोर्ट का भी अवलोकन किया। इसके अलावा मंगलवार को जिला अस्पताल में पहुंची घायल प्रियंका विश्वकर्मा (35) पत्नी शैलेष विश्वकर्मा तथा अनीता विश्वकर्मा (38) पत्नी संजय विश्वकर्मा से सीएमओ ने उनके चोट व सूजन के बारे में सीएमओ ने जानकारी ली। दोनों के सिर व पैरों में गहरी चोट देख सीएमओ डा. सतीशचंद्र ने उन्हें भर्ती होने की सलाह दी। हालांकि दोनों के सिटी स्कैन की रिपोर्ट देख उन्होंने किसी विशेष खतरे से इंकार किया। इसके बाद सीएमओ ने सीएमएस को खान-पान और दवा की व्यवस्था पर विशेष ध्यान देने के बाद मुख्यमंत्री के आगमन की तैयारियों को लेकर आयोजित बैठक के लिए निकल गए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप