बस्ती: बारिश होते ही किसानों के सामने एक बार फिर संकट खड़ा हो गया है। समितियों पर यूरिया खाद न होने से किसान निजी दुकानदारों के हाथों ठगे जा रहे हैं। मनमानी कीमत पर यूरिया बाजार में खुलेआम बेची जा रही है। जानकारी होने के बाद भी प्रशासनिक अधिकारी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। इससे किसानों की परेशानी बढ़ गई है। बारिश के बाद धान व गन्ने की फसल में यूरिया के छिड़काव की आवश्यकता है लेकिन सरकारी समितियों पर खाद न होने से किसानों को प्राइवेट दुकानदारों से खरीदना पड़ रहा है। इसका फायदा उठाते हुए दुकानदार निर्धारित से अधिक मूल्य वसूल रहे हैं। किसान सुबास, विजय चौधरी, संतोष, पुनपुन चौधरी, रामऔतार चौधरी ने बताया कि प्राइवेट दुकानदार यूरिया 300 से 310 रुपये प्रतिबोरी बेच रहे हैं। क्षेत्र में रुधौली, नसीबगंज, कोहरा, बिशुनपुरवा,परसालालशाही, मानिकचंद, चमनगंज , गौरा, सुरवार खुर्द, टिकरी, महुआर, केशवापुर बभनी, कथकपुरवा, हनुमानगंज, डडवा तिवारी आदि चौराहों पर महंगे रेट पर खाद बेची जा रही है। किसान जब दुकानदारों से पूछते हैं तो कहते हैं कि सस्ती खाद समिति पर मिलेगी। वहीं से खरीदो। उपजिलाधिकारी अयोध्या प्रसाद का कहना है कि अभी तक अधिक कीमत लेने की जानकारी नहीं है, अगर मूल्य लिया जा रह है तो जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

-------------------

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप