बस्ती : कृषि विभाग के भूमि संरक्षण प्रकोष्ठ की ओर से गुरुवार को सदर ब्लाक के करनपुर में भू-जल जागरूकता सप्ताह का आयोजन किया गया। इसमें किसानों को पानी बचाने और संरक्षित करने के तौर-तरीके बताए गए। भूमि संरक्षण अधिकारी सुधाकर चक्रवर्ती ने बताया कि पानी संरक्षण के लिए सरकार की ओर से लघु एवं सीमांत किसानों के लिए खेत तालाब योजना संचालित की जा रही है।

चालू वित्तीय वर्ष में जिले में योजना के तहत 25 का लक्ष्य प्राप्त हुआ है। लाभ के लिए पारदर्शी किसान पोर्टल से टोकन निकाला जा सकता है। उन्होंने बताया कि खेत तालाब की मदद से भू-जल रिचार्ज, पलेवा सिचाई, मत्स्य पालन, सिघाड़ा उत्पादन आदि काम किए जा सकते हैं। एसडीओ सदर ने बताया कि स्प्रिंकलर से सिचाई कर किसान अधिक पानी बचा सकते हैं। अवर अभियंता सुरेश प्रसाद ने बताया कि पानी का दोहन भविष्य के लिए ठीक नहीं है। उन्होंने किसानों से इसके संरक्षित और बचाने के तौर-तरीकों को अमल में लाने के लिए प्रेरित किया। वशिष्ठ मुनि मिश्र, सत्येंद्र त्रिपाठी, अनिल कुमार, शंभू शरण, उपेंद्र मिश्रा, विनय प्रकाश सिंह, जगदीश चौधरी, जोगेंद्र चौधरी, विकास चौधरी आदि मौजूद रहे।

50 लाख खर्च के बाद भी सार्वजनिक शौचालय चालू नहीं

नगर पंचायत बभनान में स्वच्छ भारत मिशन के तहत 50 लाख रुपये की लागत से विभिन्न वार्डों में डीलक्स शौचालय बनाए गए। देखरेख के अभाव में यह उपेक्षित हो गए। लोगों को खुले में शौच जाना पड़ रहा है। वार्ड सात सुभाष नगर में अस्पताल के पास स्थित शौचालय के आसपास झाड़ियां उग आई हैं। कूड़ा डंप किया जा रहा है। रख रखाव के अभाव दिन ब दिन बदहाल होता जा रहा है। यही हाल वार्ड नंबर आठ बाबा बागेश्वर नाथ नगर के प्राथमिक विद्यालय के बगल बने आठ सीटर शौचालय का भी है। यहां शौचालय पर फाटक बंद है। जिससे इसका प्रयोग नहीं हो पा रहा है। मजबूरन लोगों को रेलवे लाइन के किनारे शौच के लिए जाना पड़ रहा है । वार्ड नंबर छह के जूनियर हाई स्कूल के परिसर में बनाया गया शौचालय बेमतलब साबित हो रहा हैं। शौचालय न चालू होने से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उसके बाद भी जिम्मेदार बेखबर है।

अधिशासी अधिकारी रमेश कुमार गुप्ता ने कहा कि सुलभ शौचालय को संचालित करने की योजना बनाई जा रही है। जल्द ही शौचालयों की साफ-सफाई कराकर चालू करा दिया जाएगा।