जागरण संवाददाता,बस्ती: जिलाधिकारी सौम्या अग्रवाल ने गुरुवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जुलाई माह में प्रस्तावित विशेष संचारी रोग नियंत्रण एवं दस्तक अभियान की तैयारी किया। निर्देश दिया कि इस अभियान को प्रभावी ढंग से संचालित करें। जेई एवं एईएस के मामले कम से कम हों। कहा कि आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर एक जुलाई से बुखार के रोगी, टीबी रोगी तथा कुपोषित बच्चों की सूची तैयार करेंगी। इसमें लक्षण युक्त पाए गए लोगों का इलाज सीएचसी व पीएचसी पर किया जाएगा।

उन्होंने सभी उप जिलाधिकारी, खंड विकास अधिकारी तथा प्रभारी चिकित्साधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे अभियान की गतिविधियों को गति प्रदान करने के लिए प्रतिदिन शाम को बैठक कर समीक्षा करें। कहा कि जेई,एईएस की ²ष्टिकोण से बस्ती मंडल अति संवेदनशील क्षेत्र है। इस वर्ष अभी तक जेई का कोई केस नहीं मिला है। एईएस के सात केस मिले हैं,पर एक भी मृत्यु नहीं हुई है। नौ हाई रिस्क गांव चिन्हित किए गए हैं। इन गांव में सभी विभाग प्राथमिकता पर समय से सभी क्रियाकलापों को गुणवत्तापूर्ण ढंग से पूरा करें।

12 जुलाई से 25 जुलाई तक संचालित दस्तक अभियान में दरवाजा खटखटाने की जगह गृहस्वामी को आवाज देकर बुलाया जाएगा। इस दौरान कोविड-19 संबंधी दवा किट का वितरण किया जाएगा। वहीं पौधारोपण अभियान के दौरान मच्छररोधी गेंदा, तुलसी, मेंथा, पुदीना नीम आदि के पौधे अवश्य लगाए जाएं। स्वास्थ्य विभाग, नगर पालिका, नगर पंचायत, पशुपालन, कृषि, जल निगम, उद्यान, शिक्षा, महिला एवं बाल कल्याण, पंचायती राज, सिचाई, दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग के अधिकारियों को इस अभियान को प्रभावी ढंग से संचालित करने का निर्देश दिया। बैठक का संचालन जिला मलेरिया अधिकारी डा. आइए अंसारी ने किया। सीडीओ डा. राजेश कुमार प्रजापति, सीएमओ डा. अनूप कुमार, सीएमएस डा. आलोक कुमार, डा.सोमेश श्रीवास्तव, डा.फखरेयार हुसैन, उप जिलाधिकारी नीरज प्रसाद पटेल, सुखबीर सिंह, आनंद श्रीनेत सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran