जागरण संवाददाता,बस्ती : संयुक्त संघर्ष संचालन समिति उप्र के प्रदेशव्यापी आह्वान पर शिक्षकों व कर्मचारियों ने पुरानी पेंशन बहाली के साथ ही 16 सूत्री मांगों को लेकर जिलाध्यक्ष उदयशंकर शुक्ल की अगुवाई में बीएसए कार्यालय पर धरना दिया। धरने के बाद जुलूस निकालकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

जुलूस कंपनीबाग होते हुए जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचकर सभा में तब्दील हो गई। जिलाध्यक्ष ने कहा कि देश में सांसद, विधायकों को पेंशन प्राप्त है लेकिन अपना पूरा जीवन खपा देने वाले अधिकारियों, शिक्षकों व कर्मचारियों को पुरानी पेंशन नीति से वंचित रखा गया है। जब तक पुरानी पेंशन नीति लागू नहीं हो जाती चरणबद्ध ढंग से आंदोलन जारी रहेगा। आगामी पांच दिसंबर को राजधानी लखनऊ में समिति की ओर से महासम्मेलन आयोजित किया गया है जिसमें आन्दोलन की रणनीति तय की जाएगी। इस मौके पर प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन उप जिलाधिकारी रूधौली को सौंपा गया। कर्मचारियों ने कहा कि पुरानी पेंशन बहाली के लिए आंदोलन जारी रखा जाएगा।

ज्ञापन में पुरानी पेंशन नीति बहाली, समाप्त किए गए विभिन्न भत्तों को बहाल करने, 17140, 18150 लागू किए जाने, शिक्षा मित्रों को नियमावली में संशोधन कर शिक्षक पद पर समायोजित करने सहित अन्य मांगें शामिल रहीं। नरेंद्र देव मिश्र, रामनाथ, शिवशंकर कुमार, महेन्द्र चौहान, चन्द्र प्रकाश पांडेय, राजेश कुमार, राघवेन्द्र सिंह, अभय सिंह यादव, आनंद दूबे, विश्वम्भरनाथ शर्मा, विजय प्रकाश चौधरी, मनीष कुमार, शैल शुक्ल, महेश कुमार, दिवाकर सिंह, चन्द्रभान चौरसिया, बब्बन पांडेय, रामभरत वर्मा, इंद्रसेन मिश्र, देवेंद्र वर्मा, सरिता पांडेय, रीता शुक्ला, त्रिलोकीनाथ, अरुणदेव शुक्ल, सोमईराम, रक्षाराम वर्मा, राम सहाय, सूर्य प्रकाश सहित अन्य मौजूद रहे।

Edited By: Jagran