बस्ती: कई बार तारीख पड़ने के बाद आखिरकार शुक्रवार को कबीर हत्याकांड के आरोपित अभिजीत को स्थानीय पुलिस सीजेएम की अदालत में पेशी कराने में सफल हो गई। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट अंकिता दूबे ने अभिजीत को न्यायिक अभिरक्षा में लेकर 14 दिन के लिए लखनऊ कारागार भेज दिया। अभिजीत की अगली पेशी 12 दिसंबर को होगी।

पुलिस बल के साथ कोतवाली पुलिस ने लखनऊ से लाकर कबीर हत्याकांड के आरोपित अभिजीत को सीजेएम की अदालत में पेश किया। कोतवाली पुलिस द्वारा अपने अभिरक्षा में लिए जाने का कोई प्रार्थना पत्र नहीं प्रस्तुत किया गया। आरोपित का बयान दर्ज करने के लिए अनुमति मांगी गई। अदालत ने सुनवाई के बाद कोतवाली पुलिस को नियमानुसार बयान दर्ज करने की अनुमति प्रदान कर दी। पुलिस अधीक्षक द्वारा 19 अक्टूबर को यह बताया गया था कि लखनऊ में कबीर हत्याकांड के आरोपित अभिजीत को गिरफ्तार कर लिया गया है। पिछले एक महीने से कोतवाली पुलिस की ओर से कबीर हत्याकांड में अभिजीत को वांछित करने के लिए न्यायालय से वारंट बी भी प्राप्त किया गया था। बार-बार तारीख लेने के बाद भी पुलिस अभिजीत को कबीर हत्याकांड के मामले में अदालत में पेश नहीं कर पाई थी।

इस दौरान अपर पुलिस अधीक्षक पंकज, कोतवाल प्रभातेश, रौता चौकी इंचार्ज कन्हैया पांडेय आदि मौजूद रहे।

एपीएन पीजी कालेज के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष आदित्य नरायन उर्फ कबीर तिवारी की नौ अक्टूबर को मालवीय रोड पर रंजीत चौराहे के निकट गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने मौके से दो युवकों को गिरफ्तार कर उनके पास से हत्या में प्रयुक्त असलहा बरामद किया गया था। हत्या में आठ लोगों को नामजद किया गया था। उनमें से एक अभिजीत भी था।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस