बस्ती: श्रमिक भरण पोषण योजना के तहत उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड से जुड़े बस्ती जिले के 25000 श्रमिकों के खाते में बुधवार की शाम तक एक हजार रुपये भेज दिए गए। यह रकम सरकार की ओर से कोरोना वायरस के चलते हुई बंदी के दौरान भरण पोषण के लिए दी गई है।

बस्ती जनपद में कुल 73 हजार दिहाड़ी मजदूर श्रम विभाग में पंजीकृत हैं। इनमें से महज 25000 ने ही रिन्युअल कराया। इनके डाटा श्रम विभाग की वेबसाइट मे फीड है। तीन दिन अथक प्रयास कर श्रम विभाग के कर्मियों विनय दूबे,मनोज चौधरी और सुबाष चंद्र विश्वकर्मा ने डाटा अपडेट किया। मंगलवार को 1500 के खाते में एक हजार की धनराशि भेजी गई। बाकी के खाते में एक हजार रुपये बुधवार की शाम तक भेजे गए। कर्मियों ने बताया विभाग में 25 हजार श्रमिक ही एक्टिव पाए गए हैं। इनके खाते में भरण पोषण के लिए एक हजार रुपये की धनराशि भेजी गई है। 48000 श्रमिकों को कैसे मिलेगा उनका हक

पंजीकरण कराने के बाद रिन्युअल न कराने वाले 48000 श्रमिकों के बारे में विभाग अनिर्णय की स्थिति में हैं। विभागीय लोगों का कहना है अभी इनके बारे में कोई निर्देश नहीं आया है। पुराने श्रमिकों का रिन्युअल भी नहीं हो रहा है। पंजीकरण के बाद पहले प्रत्येक साल रिन्युअल कराने का प्रावधान था। अब इसे बढ़ाकर तीन साल कर दिया गया है। श्रमिकों के पंजीकरण की यह रही पात्रता

ऐसे श्रमिक जो 18 से 60 आयु के हों। बारह महीने में 90 दिनों तक निर्माण श्रमिक के रूप में कार्य किया हो। 40 रुपये एक साल के लिए और 80 रुपये तीन साल के लिए अंशदान देकर कोई भी श्रमिक पंजीकरण करा सकता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस