पीलीभीत, जागरण संवाददाता: शहर से सटे नावकूड़ गांव में सड़क किनारे झूल रहे बिजली तार की चपेट में आने से एक ग्रामीण की मृत्यु हो गई। ग्रामीण के परिवार में चीत्कार मच गई है। गांव में विद्युत लाइन बदलने का काम चल रहा है। संबंधित ठेकेदार ने बिजली तारों को ऐसे ही छोड़ दिया है। जिससे तारों में करंट दौड़ रहा है।

सदर कोतवाली क्षेत्र के गांव नावकूड़ गांव निवासी सुरेंद्र कुमार पाल रविवार की सुबह लगभग सात बजे टहलने निकला था। गांव में खंभे के पास सड़क किनारे बिजली तार झूल रहे थे। तभी अचानक बिजली तार छू जाने से सुरेंद्र कुमार पाल करंट की चपेट में आ गया। जिससे मौके पर ही सुरेंद्र कुमार बेहोश होकर जमीन पर गिर गए।

ग्रामीणों ने मामले की सूचना उनके स्वजन को दी। जिसके बाद आनन-फानन में सुरेंद्र कुमार को निजी अस्पताल में ले जाया गया। जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। सुरेंद्र कुमार की अचानक मृत्यु से परिवार में चीत्कार मच गई।

सुरेंद्र कुमार के तीन बेटे तथा एक बेटी है। वह अपने बड़े पुत्र रजत का विवाह इस वर्ष करने गकी तैयारी कर रहे थे। सदर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक हरीश वर्धन सिंह के मुताबिक नावकूड़ गांव में करंट से एक व्यक्ति की मृत्यु होने की सूचना मिली है।

बिजली ठेकेदार पर होगी कार्रवाईः जेई

भिखारीपुर स्थित विद्युत उपकेंद्र के अवर अभियंता गौरव सागर ने बताया कि गांव नावकूड़ में बिजली तारों को बदलने का कार्य ठेकेदार द्वारा कराया जा रहा है। विद्युत तारों को झूलते छोड़ना सीधे तौर पर लापरवाही का मामला है। विभाग की ओर से पूरे मामले की जांच कराकर संबंधित ठेकेदार के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। साथ ही मृतक के परिवार को आर्थिक सहायता दिलाने का प्रयास किया जाएगा।

Edited By: Aqib Khan