बरेली, जेएनएन। UP Police Crime Connection in Bareilly: उत्तरप्रदेश के बरेली में चल रहे सट्टे, जुए व शराब के अलावा नशे के अवैध कारोबार में डीआइजी की गोपनीय जांच रिपोर्ट में खाकी का गठजोड़ सामने आने से हड़कंप मच गया है। गोपनीय जांच में परत दर परत मामला खुलने पर स्थानीय पुलिस से लेकर क्राइम ब्रांच तक की कार्यप्रणाली सवालों के घेरे में है। सेटिग का पूरा खेल सामने आने के बाद डीआइजी ने अब इसकी जांच एसपी व सीओ तृतीय अभिषेक वर्मा को सौंपी है। एसएसपी ने भी आरोपों पर जवाब तलब किया है।

सेटिंंग से चमकाया आशियाना

डीआइजी की गोपनीय जांच में पता चला कि कई पुलिसकर्मी ऐसे हैं, जिनके घरों की ईंट, दरवाजे, चौखट, खिड़कियां, एसी, कूलर ही नहीं बल्कि घर में महंगे पेंट के साथ डेकोरेशन तक जुआरियों व सटोरियों ने कराया। कई तो ऐसे हैं कि उनके घरों के अन्य सामान भी इन्हीं सटोरियों और जुआरियों की देन हैं।

दो बोतल शराब, 10 बीयर व तीन हजार रोजाना पर हो रहा जुआ

बारादरी के रुहेलखंड क्षेत्र में एक जुआरी द्वारा लॉकडाउन में भी बड़े पैमाने पर जुआ कराया गया। डीआइजी की माने तो इसमें स्थानीय पुलिस के अलावा कुछ क्राइम ब्रांच वालों के नाम भी सामने आए हैं, जो जुआ के बदले दो बोतल शराब, 10 बियर व तीन हजार रुपये प्रतिदिन लेते थे। हफ्ते में तीन दिन जुआरियों द्वारा रेस्टोरेंट में पार्टी कराई जाती थी।

नहीं कोई बड़ा गुडवर्क, नए लोगों को मिले मौका

डीआइजी ने क्राइम ब्रांच की टीम द्वारा किए गए कार्यों की भी समीक्षा की, जो संतोषजनक नहीं मिला। छह महीने में हॉटस्पॉट में चोरी के अलावा कोई खास काम सामने नहीं आया। बातचीत में कहा कि नए लड़कों को भी मौका दिया जाना चाहिए।

जांच में जो सामने आया है, वह बेहद चौकाने वाला है। एसपी अभिषेक वर्मा को जांच दी गई है। जो भी दोषी मिलेगा, उस पर कार्रवाई की जाएगी। - राजेश पाण्डेय, डीआइजी

Posted By: Ravi Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस