जेएनएन, बरेली : उच्च शिक्षा राज्यमंत्री ने रुहेलखंड विश्वविद्यालय में प्राचार्यो, विश्वविद्यालय के अफसरों के साथ सोमवार को समीक्षा बैठक की। इस दौरान उन्होंने सभी से नकलविहीन परीक्षा कराने के लिए कहा। बोलीं, इसके लिए प्रदेश के सभी राज्य विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में नई समितियों का गठन किया जाएगा। जो पहले की परीक्षाएं कराते आए हैं उन्हें जिम्मेदारी नहीं दी जाएगी। फ्लाइंग स्क्वॉड में भी नए सदस्य ही होंगे।

महाविद्यालयों में जैमर लगाए जाएंगे: राज्यमंत्री ने कहा कि नकलविहीन परीक्षा के लिए महाविद्यालयों में जैमर लगाए जाएंगे। सीसीटीवी, ऑडियो रिकॉर्डर आदि की सही व्यवस्था होनी चाहिए। उन्होंने प्राचार्यो को नैक मूल्यांकन सही ढंग से कराने के लिए कहा। बोलीं, इसके लिए सरकारी व अर्ध सरकारी कॉलेजों को आर्थिक मदद भी दी जाएगी। बजट में इसका अलग से प्रावधान इस बार किया जाएगा।

छात्रों की रिपोर्ट खोलेगी शिक्षकों की पोल: नैक के जरिए शिक्षकों के कामकाज का भी मूल्यांकन हो जाएगा। इस बार से छात्रों और पूर्व छात्रों के फीडबैक भी लिए जा रहे हैं। इनसे स्पष्ट हो जाएगा कि कॉलेज या विश्वविद्यालय में शिक्षक क्या काम कर रहे हैं। कितना शोध किया है। कितने सेमिनार कराए और कितने में खुद प्रतिभाग किया। जो अच्छा नहीं करेगा उसपर कार्रवाई भी हो सकती है।

फुल प्रूफ भर्ती नीति तैयार की जा रही: उन्होंने बताया कि उच्च शिक्षण संस्थानों में शिक्षकों की भर्ती के लिए ऐसी रिक्रूटमेंट पॉलिसी तैयार की जा रही है जो फुल प्रूफ हो। उसे कहीं से भी कोर्ट में चुनौती न दी जा सके। जल्द सभी शिक्षकों, कर्मचारियों के रिक्त पद भर दिए जाएंगे।

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप