बरेली, जेएनएन : शहर की सबसे प्रमुख और व्यस्त श्मशान भूमि रेलवे क्रॉसिंग आज से तीन दिन बंद रहेगी। छह से आठ सितंबर तक रेलवे इस क्रॉसिंग (359-बी) के पास ट्रैक की मरम्मत करेगा। यहां का ट्रैफिक बगल की मढ़ीनाथ और बाकरगंज क्रॉसिंग से निकाला जाएगा। डायवर्जन के लिए रेलवे ने गुरुवार को प्रशासन व पुलिस अधिकारियों को सूचना भेज दी।

रद या डायवर्ट नहीं होगी कोई ट्रेन

फाटक शुक्रवार सुबह आठ बजे बंद होगा जो रविवार की शाम सात बजे ही खुलेगा। यह क्रॉसिंग बाकरगंज क्षेत्र और आसपास के कई गांव के लोगों के शहर आने-जाने का मार्ग है। यह रास्ता बंद होने पर मढ़ीनाथ और बाकरगंज फाटक पर लोड काफी बढ़ जाएगा। ट्रैक मरम्मत के दौरान कोई ट्रेन रद या डायवर्ट नहीं होगी। हालांकि, जिस जगह काम चलेगा वहां से कॉशन देकर दस किलोमीटर प्रति घंटा की गति से ही ट्रेनें निकाली जाएंगी।

कूड़ा बन जाएगा परेशानी का सबब

नगर निगम की कूड़ा फेंकने वाली बड़ी-बड़ी गाड़ियां बाकरगंज ट्रंचिंग ग्राउंड तक इसी क्रॉसिंग से होकर मार्ग से पहुंचती हैं। ऐसे में सबसे बड़ी दिक्कत शहर का कूड़ा बनेगा। तीन दिन तक यह बड़ी गाड़ी कूड़ा नहीं पहुंचा सकेंगी।

श्मशान भूमि क्रॉसिंग के पास बड़े स्तर पर ट्रैक मरम्मत होनी है। ऐसे में क्रॉसिंग तीन दिन तक पूरी तरह बंद रहेगी। ट्रेनें कॉशन देकर गुजारी जाएंगी। - विनय कुमार, सीनियर सेक्शन इंजीनियर (रेलपथ), उत्तर रेलवे, बरेली

जंक्शन की लाइन नंबर तीन पर ब्लॉक बना परेशानी

जंक्शन की रेललाइन नंबर तीन (प्लेटफार्म नंबर दो) पर एक बार फिर से करीब तीन घंटे का ब्लॉक लिया जा रहा। इस रूट पर मुरादाबाद, दिल्ली और पंजाब की ओर से यानी अपलाइन की गाड़ियां आती हैं। दोपहर करीब साढ़े बारह बजे से तीन बजे तक चलने वाले ब्लॉक के दौरान प्लेटफार्म नंबर दो की जगह ट्रेनों को प्लेटफार्म नंबर चार या पांच पर लिया जाता है। वैसे तो ब्लॉक एक रूटीन प्रक्रिया है। लेकिन पिछले कुछ दिनों से लगातार इस लाइन पर लिया जाने वाला ब्लॉक तब अजीब लगता है, जबकि लाइन नंबर तीन पर जुलाई के महीने में ही मेगा ब्लॉक लिया जा चुका है। तब 15 दिनों के ब्लॉक के दौरान इस रूट को पूरी तरह बदलकर पटरी और स्लीपर बदलने का काम हुआ था। ट्रेनों के संचालन से जुड़े एक रेल अधिकारी बताते हैं कि एक बार फिर से ब्लॉक की वजह से ट्रेनों को दूसरे प्लेटफार्म पर लिया जा रहा। जिससे ट्रेन निर्धारित समय से लेट भी हो रहीं। हालांकि रेलपथ महकमे से जुड़े अधिकारी के मुताबिक रेलवे ट्रैक पर इस तरह का कामकाज सामान्य है।

Posted By: Abhishek Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस