बरेली, जेएनएन। Bareilly Crime News : एक दिन पहले नवाबगंज थाने की पुलिस जिस व्यक्ति को उठा लाई थी और हाफिजगंज थाने में उसी के अपहरण का मुकदमा लिखा गया था, उस प्रकरण में गुरुवार को नया मोड़ आ गया। पुलिस की बताई कहानी के मुताबिक एक व्यक्ति ने बेटे की हत्या का बदला लेने के लिए डेढ़ लाख की सुपारी दी थी। बेटे के हत्यारोपित को ठिकाने लगाने के लिए वह रामपाल व एक अन्य के साथ मिलकर योजना बना रहा था। उसी समय पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार किया था। उनके पास से तमंचा व चाकू बरामद कर गुरुवार को जेल भेज दिया। वहीं, मामले की जानकारी होने पर हाफिजगंज पुलिस ने रामपाल के अपहरण का मुकदमा एक्सपंज कर दिया।

क्योलडिय़ा थानाक्षेत्र के ग्राम डंडिया नजमुलनिशा निवासी श्रीपाल के बेटे विजय पाल की प्रेम प्रसंग के चलते 28 सितंबर 2018 को गांव के ही रमेश चंद्र, जगदीश, तेजपाल व बाबूराम ने हत्या कर दी थी। बेटे की हत्या का बदला लेने के लिए श्रीपाल ने हाफिजगंज थानाक्षेत्र के ग्राम नरई नऊआ नगला निवासी रामपाल उर्फ नन्हे व सुनौर निवासी भंवरपाल को डेढ़ लाख की सुपारी देकर रमेश चंद्र की हत्या कराने की योजना बनाई। श्रीपाल ने दोनों को 82 हजार रुपये एडवांस भी दिए थे। 16 जून को तीनों कस्बे के रामलीला ग्राउंड में हत्या की योजना बना रहे थे। इसी समय पुलिस ने तीनों को पकड़ लिया। पुलिस ने श्रीपाल और भंवरपाल के पास से एक-एक तमंचा व दो कारतूस तथा रामपाल के पास से चाकू बरामद किया। इंस्पेक्टर नवाबगंज धनंजय ङ्क्षसह ने बताया कि गुरुवार को तीनों को जेल भेज दिया।

रामपाल को घर से उठाने पर मचा था अपहरण का शोर : 15 जून की रात नवाबगंज पुलिस हत्या की सुपारी लेने के आरोप में हाफिजगंज थानाक्षेत्र के ग्राम नरई नऊआ नगला निवासी रामपाल को घर से उठा लाई थी। स्वजन ने अपहरण का शोर मचा दिया था। हाफिजगंज पुलिस ने वायरलेस से मैसेज सभी थानों को दिया, लेकिन नवाबगंज पुलिस ने रामपाल को उठाने की जानकारी नहीं दी। इस पर हाफिजगंज पुलिस ने उसके भाई की ओर से अज्ञात के खिलाफ अपहरण का मुकदमा दर्ज कर लिया था। हाफिजगंज पुलिस को जब रामपाल के नवाबगंज थाने में होने की सूचना मिली तो मुकदमे को एक्सपंज किया गया।एसपी देहात राजकुमार अग्रवाल ने बताया कि हत्या को अंजाम देने के लिए डेढ़ लाख की सुपारी ली गई थी। प्रकरण में शामिल तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

 

Edited By: Samanvay Pandey