मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बरेली, जेएनएन : मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) बिल पास होने के बाद बरेली में दर्ज हो रहे तीन तलाक के मुकदमे में कोतवाली पुलिस ने शुक्रवार को पहली गिरफ्तारी की। कोतवाली में पूछताछ के दौरान आरोपित शौहर ने कहा कि उसने तीन तलाक दिया है जो करना है कर लो। जिसके बाद पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश किया। मजिस्ट्रेट ने उसे जेल भेज दिया।

कोतवाली क्षेत्र के बिहारीपुर मेमरान निवासी बेबी नाज का निकाह साल 2002 में कांकरटोला निवासी मुहम्मद आदिल सिद्दकी से हुआ था। निकाह के बाद ससुराली दहेज के लिए प्रताडि़त करते थे। उसके बाद उसे घर से निकाल दिया तो शौहर उसे किराये के कमरे में लेकर रहने लगा। किसी तरह पीडि़ता जरी-जरदोजी का काम करके घर चलाती थी।

इस दौरान शौहर उसे अक्सर मारपीट कर रुपये मांगता था। 15 मई को गुटखा के लिए रुपये देने से मना करने पर शौहर ने उसे पीटकर घायल कर दिया और बेटे समेत निकाल दिया। काफी समझाने के बाद भी शौहर नहीं माना। तब चार दिन पहले एसएसपी के आदेश पर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया। शुक्रवार दोपहर पुलिस ने उसे दबोच लिया। थाने लाकर पूछताछ की तो आरोपित शौहर समझाने के बाद पुलिस से ही भिड़ गया। बोला- उसने तीन तलाक दिया है। वह पत्नी से किसी तरह का संबंध नहीं रखना चाहता। जो करना है कर लो। जिसके बाद पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश किया। जहां सुनवाई के बाद उसे जेल भेज दिया गया। 

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप