बरेली, जेएनएन । स्टेशन रोड की ओम इंक्लेव कॉलोनी में सोशल डिस्टेंस के लिए लोगों ने इन दिनों बालकनी को चैटिंग अड्डा बना लिया है। बात की बात हो रहती है, दूरी भी बनी रहती है। वीडियो कॉलिंग के जरिये लोग एक दूसरे के हालचाल रहे हैं।

ओम इंक्लेव में कोरोना संक्रमण से बचने के लिए शुरुआत में लोगों ने सैनिटाइजर और घर के दरवाजे पर ही हाथ धुलवाने के बाद लोगों को घर के अंदर आने दिया जाता था। लेकिन लॉकडाउन होने के बाद लोगों ने एक दूसरे के घर का आना बंद किया है। अब सोशल डिस्टेंस बनाए रखने के लिए लोगों ने घरों की बालकनी से ही संपर्क साधना शुरू किया है।

गुरुवार को कॉलोनी के अंदर संजय कुमार, त्रिभुवन सिंह और वेद कुमार के परिवार बालकनी पर ही मिले। हंसने की आवाजों से ध्यान गया तो चाय की चुस्कियों के साथ परिवार के लोग आपस में हंसी मजाक कर रहे थे। अहम यह भी था कि बालकनी पर भी वह एक दूसरे से दूरी बनाए हुए थे। यहां से कुछ दूर आगे बढ़ने पर वंदना अपने घर की बालकनी पर मोबाइल के जरिये वीडियो कॉल के जरिये परिजनों से हालचाल लेती हुई मिलीं।

कॉलोनी में जागरुकता ऐसी है कि लॉकडाउन का मतलब सौ फीसद लोग घरों में ही है।

- उर्मिला श्रीवास्तव, ओम इंक्लेव

वीडियो चैट, वाट्सएप के जरिये लोग आपस में बातचीत कर रहे है। कई आयोजन निरस्त किए गए हैं।

- रवि सक्सेना, ओम इंक्लेव

हम मोबाइल पर ही आपस में बातचीत कर लेते हैं। दरवाजे पर भी दूरी बनाकर बातचीत करते हैं। - रामजीराम, ओम इंक्लेव

फागिंग होनी चाहिए। मच्छरों का प्रकोप अधिक है। लोग तो घरों में ही रहते हैं। आवाजाही बंद है। - सीके मिश्र, ओम इंक्लेव

 

Posted By: Ravi Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस