जासं, बरेली: नगर निगम की टीम ने मंगलवार को शहर में सरकारी भूमि से कब्जे हटाए। कब्जे हटाने पर लोगों ने टीम का विरोध किया।

इज्जतनगर के गांव महलऊ निवासी कुछ लोगों ने बीते दिनों नगर आयुक्त को पत्र देकर सरकारी भूमि पर कब्जा कर अवैध रूप से निर्माण करने की शिकायत की थी। जीत बहादुर, रमेश, सदीक, तेजराम, अमर सिंह आदि ने वहां से अतिक्रमण हटाने की मांग की थी। नगर आयुक्त ने मंगलवार को वहां टीम भेजी। टीम ने अवैध निर्माण ध्वस्त कर दिया। सैदपुर हाकिस में कुछ लोगों द्वारा तालाब पाटकर वहां अवैध रूप से मकान बनाया जा रहा था। स्थानीय पार्षद दीपक सक्सेना ने निगम के अधिकारियों से इसकी शिकायत की थी। टीम वहां भी पहुंची। टीम ने वहां मकान का निर्माण रुकवाकर बुलडोजर से उसे ध्वस्त करा दिया। इसके अलावा टीम ने तीसरी कार्रवाई सीबीगंज में की। परसाखेड़ा औद्योगिक क्षेत्र के रोड नंबर चार स्थित रामचंद्र मिशन आश्रम के बराबर में नगर निगम की कुछ भूमि खाली पड़ी है। पूर्व केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार के पैतृक गांव टियुलिया का पानी उसी भूमि पर होकर नाले द्वारा निकलता था। बरेली प्लाइवुड फैक्ट्री द्वारा नाले को पाटकर उस पर अपनी दीवार बनाई जा रही थी। ग्रामीणों ने कई बार इसका विरोध किया। जिलाधिकारी से भी मामले की शिकायत की गई। डीएम के आदेश पर राजस्व विभाग की टीम मौके पर की पहुंची। जमीन की पैमाइश में शिकायत सही पाई गई थी। सीएम पोर्टल पर भी शिकायत की गई थी। नगर निगम की अतिक्रमण विरोधी टीम ने वहां पहुंचकर अवैध रूप से बनाई जा रही दीवार को ध्वस्त कर दिया।

Edited By: Jagran