जेएनएन, बरेली : छात्र ने गुरूजी को एक युवती के साथ आपत्तिजनक हालत में देख लिया। गुरूजी उसे बात छिपाने के लिए धमकानेे लगे। छात्र सहम गया और घर छोड़कर भाग गया। परिजनों ने तलाश शुरू की और मामला थाने पहुंच गया। पुलिस ने जब छानबीन शुरू की तो उसकी लोकेशन पीलीभीत में मिली। अब परिजन और पुलिस उसकी तलाश में पीलीभीत निकल गए हैं।

थाना क्षेत्र के गांव रत्ना नंदपुर निवासी देवपाल का पुत्र भानेष कस्बा नवाबगंज से सटे एक गांव में संचालित स्कूल में कक्षा आठ का छात्र है। विद्यालय में पढ़ाने वाले कस्बे के ही एक शिक्षक को उसने पांच दिन पूर्व एक लड़की के साथ आपत्तिजनक हालत में देख लिया था। इसके बाद से शिक्षक उसे यह बात किसी से न कहने को लेकर पिता के फोन पर कॉल कर धमका रहा है। बीते गुरुवार को छात्र ड्रेस पहनकर विद्यालय के लिए निकला था। इसके बाद से वह घर नहीं लौटा। परिजनों ने खोजबीन की, लेकिन उसका कोई पता नहीं मिला। इस पर उसके पिता ने विद्यालय के प्रधानाचार्य से पूछताछ की तो पता चला छात्र स्कूल ही नहीं पहुंचा था।

छात्र के पिता का आरोप- शिक्षक ने किया बेटे का अपहरण

छात्र के पिता का आरोप है कि उनके बेटे का शिक्षक ने अपहरण कर लिया है। शनिवार को छात्र के पिता ने शिक्षक के खिलाफ पुलिस को तहरीर दी। कोतवाल गौरव सिंह ने शिक्षक को थाने बुला कर पूछताछ शुरू की। इसी दौरान किसी नंबर से शिक्षक के मोबाइल पर कॉल आई। उस पर छात्र भानेष बोल रहा था। उसने शिक्षक से अपने एक दोस्त का नंबर मांगा। जब शिक्षक ने उससे पूछा कि वह कहां है तो उसने फोन काट दिया। इसके बाद कई बार फोन मिलाया गया लेकिन नहीं उठा।

रास्ते में किसी व्यक्ति से फोन लेकर की थी कॉल 

इंस्पेक्टर ने जब मोबाइल की लोकेशन निकलवा कर उस पर फोन किया तो किसी अन्य व्यक्ति ने फोन उठाया। उसने बताया कि छात्र उसे रास्ते में मिला था। उसने घर बात करने को कॉल की थी। इंस्पेक्टर ने उस व्यक्ति से बच्चे की तलाश करने को कहा। साथ ही नवाबगंज से परिजनों के साथ पुलिस की एक टीम पीलीभीत भेजी है। जहां उसकी तलाश कराई जा रही है।  

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप