जेएनएन, बरेली : केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीटेट) में सेंध लगाने वाले मुरादाबाद निवासी सचिन राणा के पीछे एसटीएफ लगी है। उसकी तलाश में मुरादाबाद से लेकर कानपुर तक निगरानी की जा रही है। एसटीएफ उसकी मोबाइल लोकेशन ट्रेस करने के लिए कॉल डिटेल भी निकलवा रही है।

तलाश रही सम्पर्क : यह जानने का प्रयास किया जा रहा है कि सचिन बरेली में किन अभ्यर्थियों और सॉल्वरों के साथ संपर्क में था। बरेली में सॉल्वरों की लोकेशन क्या थी। सॉल्वरों ने किसी परीक्षा सेंटर में परीक्षा दी या नहीं।

बिहार के नंबरों की तलाश : एसटीएफ परीक्षा वाले दिन बरेली में आने वाले बिहार के उन नंबरों की तलाश रही है। जिनकी लोकेशन परीक्षा के दिन एक साथ थी। वहीं, वह एक साथ ही बाहर गए हो।

प्रतियोगी परीक्षा छोड़ सचिन ने बनाई अपनी गैंग : एसटीएफ की माने तो सचिन राणा के पिता पुलिस विभाग में दारोगा के पद पर तैनात है। वह पहले प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करता था, लेकिन नौकरी नहीं मिली। उसने पहले अपनी जगह सॉल्वर बैठाकर परीक्षा पास करने की कोशिश की। सफल नहीं हो सका तो मोटी कमाई देखकर बिहार के सॉल्वर गैंग से जुड़ गया।

सीटेट परीक्षा के फरार सॉल्वरों के नंबर लगे हाथ : बरेली एसटीएफ की टीम ने सीटेट परीक्षा के दौरान मुरादाबाद से सॉल्वर गैंग के सदस्यों समेत 10 लोगों को गिरफ्तार किया था। हालांकि, आधा दर्जन सॉल्वर मौके से भागने में कामयाब हो गए थे। पकड़े गए सॉल्वरों से एसटीएफ को उनके आधा दर्जन फरार साथियों का नंबर मिला है। जिसकी मदद से उनकी लोकेशन ट्रेस की जा रही है।  

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021