जागरण संवाददाता, बरेली: रुहेलखंड विश्वविद्यालय की ओर से आयोजित स्नातक-परास्नातक मुख्य परीक्षा में बीते मंगलवार को शाहजहांपुर के सत्यपाल सिंह डिग्री कालेज में सामूहिक नकल पकड़ी गई थी। सचल दल ने कालेज में सामूहिक नकल करते हुए 14 छात्रों को पकड़ उन्हें यूएफएम किया था। अब कुलपति प्रो. केपी सिंह ने कालेज को परीक्षा के लिए डिबार किया है। उन्होंने शेष परीक्षाओं को पास के दूसरे महाविद्यालय में कराने के आदेश दिए हैं। साथ ही केंद्राध्यक्ष को भी पद से हटाते हुए उनका अनुमोदन निरस्त किया है। वह अब किसी परीक्षा में केंद्राध्यक्ष नहीं बन सकेंगे। साथ ही शिक्षक डा. राहुल की जेब से नकल बरामद की गई थी, उसका भी अनुमोदन भी निरस्त किया गया है।

27 जुलाई को दूसरी पाली में सामान्य अंग्रेजी की परीक्षा में शाहजहांपुर के सत्यपाल सिंह डिग्री कालेज में सीसीटीवी कैमरे बंद कर नकल कराई जा रही थी। सचल दल के पहुंचने पर छात्र व शिक्षक नकल की पर्चियां फेंकने लगे। सचल दल ने सभी कमरों में तलाशी अभियान चलाया तो सामूहिक नकल पकड़ी गई थी।

कुलपति बोले, बर्दाशत नहीं होगी नकल

कुलपति प्रो. केपी सिंह ने बताया कि किसी भी परीक्षा केंद्र में नकल बर्दाश्त नहीं की जाएगी। जिस केंद्र पर नकल की शिकायत प्राप्त होगी, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

नकलची छात्रों पर परीक्षा समिति करेगी निर्णय

मीडिया सेल के प्रभारी डा. अमित सिंह ने बताया कि सत्यपाल सिंह कालेज के केंद्राध्यक्ष को उस पद से हटाने, शिक्षक डा. राहुल को तत्काल प्रभाव से विश्वविद्यालय की अनुमोदित शिक्षक सूची से हटाने की कार्रवाई विश्वविद्यालय की ओर से की गई है। इसके अलावा पकड़े गए 14 नकलची छात्रों के विरुद्ध कार्रवाई के लिए परीक्षा समिति को निर्देशित किया गया है।

Edited By: Jagran