बरेली, जेएनएन। Sports compulsory with education : जिले के सभी स्कूलों में अब पढ़ाई के साथ चार विभिन्न खेलों के खिलाड़ी तैयार होंगे। संबंधित खेल में दक्षता बढ़ाने के बाद इन छात्रों को खेल विभाग की ओर से संचालित छात्रावास और स्पोर्ट्स कालेज के लिए तैयार किया जाएगा। अभ्यास के दौरान छात्रों को किसी तरह की कोई दिक्कत न आए इसके लिए समय-समय पर क्षेत्रीय क्रीड़ाधिकारी की ओर से व्यवस्था का जायजा भी लिया जाएगा।

हाल ही टोक्यो में आयोजित हुए ओलिंपिक के बाद अब खेलों को बढ़ावा देने व खेल के प्रति युवाओं में रुचि बढ़ाने के लिए जिम्मेदारी अपने-अपने स्तर से गंभीर हुए हैं। इस पहल को सफल बनाने के लिए माध्यमिक शिक्षा विभाग और खेल विभाग ने स्कूलों को चुना है। जहां खेल प्रतिभा होने की अपार संभावनाएं हैं। क्षेत्रीय क्रीड़ाधिकारी ने जिले के लगभग सभी स्कूल के प्रधानाचार्य, प्रबंधक और खेल शिक्षकों को निर्देश दिए हैं कि पढ़ाई के साथ ही बास्केटबाल, वालीबाल, हाकी और फुटबाल जैसे खेलों का छात्रों को ज्यादा से ज्यादा अभ्यास कराएं।

स्टेडियम के कोच करेंगे मदद : क्षेत्रीय क्रीड़ाधिकारी जितेंद्र यादव के अनुसार स्कूल अपने स्तर से जल्द से जल्द प्रयास करें। अभ्यास के दौरान अगर किसी छात्र को कोई परेशानी होती है तो स्टेडियम में संबंधित खेल को कोच को वहां भेज छात्रों की समस्या का निदान किया जाएगा। इसके अलावा स्कूलों में खेलों को बढ़ावा देने के लिए और अभ्यास की क्या गति है इसकी जानकारी के लिए सभी स्कूलों के जिम्मेदारों से संपर्क कर एक वाट्सएप ग्रुप बनाया जाएगा।

कोर कमेटी तैयार करेगी रुपरेखा : मंडलीय क्रीड़ा सचिव नईम अहमद ने बताया कि इस पहल की रुपरेखा कोर कमेटी तैयार करेगी। संभवत: अगले सप्ताह तक कोर कमेटी का गठन भी कर लिया जाएगा। इसमें स्कूलों के प्रधानाचार्य, प्रबंधक और खेल शिक्षक शामिल होंगे।

Edited By: Samanvay Pandey