जेएनएन, बरेली : नागरिकता संशोधन बिल को लेकर चल रहे विरोध के बीच इज्जतनगर के मौलाना ने गुरुवार देर रात सोशल साइट्स पर भड़काऊ पोस्ट कर दी। मामले की जानकारी पर पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद शुक्रवार को पूरे दिन थाने में गहमागहमी बनी रही। पुलिस भी हर स्थिति से निपटने को तैयार थी। इसके चलते ही थाने में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था।

थाना इज्जतनगर क्षेत्र की मदीना मस्जिद महलऊ के इमाम मौलाना राहत खान कादरी ने गुरुवार रात को सोशल साइट्स पर एक पत्र जारी करते हुए नागरिकता संशोधन बिल पर टिप्पणी की। पत्र में उन्होंने शुक्रवार को प्रदर्शन में लोगों से शामिल होने की अपील भी की। इस पोस्ट से माहौल खराब होने की आशंका व्यक्त करते हुए पुलिस ने आनन-फानन कार्रवाई शुरू कर दी।

गुरुवार रात में मुकदमा दर्ज कर लिया और मौलाना को गिरफ्तार किया। मौलाना को दिन भर थाने से अलग किसी और स्थान पर रखा गया। आशंका थी कि बिल के विरोध के बहाने कुछ लोग उनके समर्थन में आ सकते हैं, इसलिए इज्जतनगर थाने में बड़ी संख्या में पुलिस तैनात रही। हालांकि विरोध में कोई नहीं आया।

 माहौल न बिगड़े इसे लेकर कार्रवाई की गई है। उनकी ओर से किए गए अपराध में गंभीर धारा नहीं बन रही है। लेकिन माहौल को देखते हुए मौलाना को अभी हिरासत में ही रखा गया है।

- शैलेश पांडेय, एसएसपी  

AIMIM के अध्यक्ष सहित 150 पर मुकदमा दर्ज 

नागरिकता संशोधन बिल को लेकर मुस्लिम समाज ने सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन किया। आल इंडिया इत्तेहाद-ए-मिल्लत काउंसिल के अध्यक्ष मौलाना तौकीर रजा खां की अगुवाई वाले प्रदर्शन में एलान किया गया कि बिल को किसी दशा में कुबूल नहीं किया जाएगा। नौमहला मस्जिद के सामने प्रदर्शन में मौलाना तौकीर ने तो यहां तक कह दिया कि बिल के विरोध में किसी भी हद तक जाने को तैयार हैैं। गोलियां खाने से भी नहीं डरेंगे। खून की नदियां बहने की बात कही है। 

दामोदर स्वरूप पार्क, चौकी चौराहा और मुहल्ला सराय खाम के मदरसा काशिफुल उलूम पर भी नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ प्रदर्शन किया गया। राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर बिल वापस लिए जाने की मांग की है। विरोध में सैलानी और कुतुबखाना बाजार में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने दुकानें भी बंद रखीं।

नौमहला मस्जिद से चौकी चौराहा तक हुआ प्रदर्शन

 नागरिकता संशोधन बिल को लेकर सड़कों पर आक्रोश दिखा। जुमे की नमाज के बाद बारिश में भी प्रदर्शन जारी रहा। धारा 144 लागू होने के बावजूद जुलूस निकाले गए। डीएम के जरिए राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजे। बाजारों में दुकानें भी बंद रखीं।मुख्य प्रदर्शन आल इंडिया इत्तेहाद-ए-मिल्लत काउंसिल के अध्यक्ष मौलाना तौकीर रजा खां की अगुवाई में नौमहला मस्जिद में हुआ। यहां जुमे की नमाज के बाद सभा में मौलाना तौकीर रजा खां ने कहा कि संविधान की भावना के विपरीत नागरिकता संशोधन बिल पास किए जाने से हर तबका खफा है।

सरकार ने सदन में बेईमानी की है। संविधान में फेरबदल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। संघर्ष होगा। बरेली से बात नहीं बनी तो दिल्ली घेरेंगे। मौलाना ने कहा कि प्रशासन के अनुरोध एवं धारा 144 लागू होने के कारण पैदल मार्च रद किया जा रहा है। बारिश में भी भीड़ डटी रही। लोग अयूब खां और चौकी चौराहा पहुंच गए। मौलाना तौकीर रजा खां को भी चौकी चौराहा पहुंचना पड़ा। उनके समझाने के बाद पुराना शहर से आए लोग वापस घर लौट गए।

आइएमसी के प्रदर्शन में ये रहे शामिल: डॉ. नफीस खां, जुनैद रजा खां, मुनीर इदरीसी, नदीम खां, एम इकबाल, शाहनवाज वारसी, अफजाल बेग, शुएब रजा खां, सलीम खां, फरमान रजा खां, इमरान रजा खां और मौलाना शहाबुद्दीन रजवी इत्यादि शामिल रहे।

जमीयत का काशीफुल उलूम पर प्रदर्शन : जमीयत उलमा-ए-हंिदू ने नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ मुहल्ला सराय खाम के मदरसा काशीफुल उलूम के बाहर प्रदर्शन किया। बिल को मुसलमानों के खिलाफ बताते हुए इसे वापस लेने की मांग की। नगर मजिस्ट्रेट मदन कुमार को ज्ञापन भी सौंपा। जिलाध्यक्ष मौलाना मुहम्मद युनूस कासमी, महासचिव मुफ्ती मुहम्मद अबू जफर नोमानी अलकासमी, महानगर अध्यक्ष हाफिज मुहम्मद आसिफ आदि शामिल हुए।

एआइएमआइएम ने पार्क में की नारेबाजी : सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने सेठ दामोदर स्वरूप पार्क में प्रदर्शन किया। ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा। इसमें कहा गया है कि आजादी की लड़ाई में सभी धर्म के लोगों ने संघर्ष किया था। अब धर्म के आधार पर सरकार भेदभावपूर्ण फैसले ले रही है। राष्ट्रपति से ऐसे कामों पर अंकुश लगाने की मांग की। मुहम्मद असलम एडवोकेट, मुहम्मद इरफान अंसारी, रिजवान, अन्ने सकलैनी इत्यादि शामिल रहे।

विरोध में सभा कर रहे लोगों को पुलिस ने खदेड़ा

 नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में सभा के लिए एकत्र हुए लोगों को पुलिस ने दौड़ा लिया। घरों तक लाठियां फटकार कर खदेड़ा गया। अब उन पर कार्रवाई की तैयारी भी की जा रही है। शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद लोगों से कस्बे में एक जगह पर एकत्र होने का आह्वान किया था। नैनीताल रोड स्थित मार्केट में एकत्र होकर बिल के विरोध में सभा कर रहे थे।

सूचना पर सीओ रामानंद राय, कोतवाल राम अवतार सिंह पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गये। पुलिस ने पहले लोगों को समझाया और न मानने पर लाठियां फटकारते हुए उन्हें गलियों में खदेड़ दिया गया। अनुमति के बिना सभा कर रहे लोगों पर पुलिस देर-सवेर कार्रवाई कर सकती है। विरोध प्रदर्शन के पीछे एक मौलाना का नाम सामने आया है, जो सरकारी मुलाजिम बताए जा रहे हैं। बहेड़ी कस्बा प्रभारी सतेंद्र सिंह ने बताया कि जुमे की नमाज पढ़कर कुछ लोग एकत्र थे। उन्हें चेतावनी दी गई थी। सभा करने जैसी कोई बात नहीं थी। कस्बा में धारा 144 लागू है।

Posted By: Abhishek Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस