बरेली, जेएनएन : रामपुर गार्डन में विकास भवन की तरफ से आने वाले रास्ते को बंद कर दिया है। इससे लोग परेशान हो रहे हैं। लेकिन हैरत तो इस बात की है कि नगर निगम को इसकी जानकारी ही नहीं।

श्यामगंज से विकास भवन आ रहे मार्ग से रामपुर गार्डन जाने के लिए छह गलियां हैं। श्यामगंज से आने वाले वाहनों को इन गलियों से निकलकर प्रभा टाकीज, अग्रसेन पार्क, पटेल चौक, नगर निगम की ओर आने में आसानी होती है। विकास भवन के सामने से डिवाइडर खुला होने के कारण वाहन श्री पीसी आजाद मार्ग से होकर रामपुर गार्डन समेत अन्य जगहों को निकलते हैं। इस मुख्य मार्ग पर बीते कुछ दिनों से गेट बंद कर दिया गया। वहां गेट पर ताला लगाकर सिर्फ पैदल चलने वालों के लिए उसे खोल रखा है। पटेल चौक, कालीबाड़ी समेत अन्य जगहों से रामपुर गार्डन होकर ज्यादातर वाहन इसी गेट से निकलते हैं। पहले भी गेट कर दिए गए थे बंद

पिछले साल कोविड के दौरान रामपुर गार्डन को कंटेनमेट जोन बनाया गया था। उस वक्त भी संक्रमण से बचने के लिए लोगों ने गेटों को बंद किया था। उसके बाद आवागमन शुरू होने पर भी गेट नहीं खोले थे। वहां के लोगों के मुताबिक आटो, टेंपो समेत कई वाहन यहीं से निकल रहे हैं, जिससे वहां ट्रैफिक बढ़ने से हादसे का खतरा भी बढ़ा है। बाद में नगर निगम के अधिकारियों के सामने आने से गेट खोले गए। इधर, फिर एक बार वहां का मुख्य मार्ग बंद कर दिया गया है। मरीजों की लग रही लाइन, हो रहे हादसे

रामपुर गार्डन के श्री पीसी आजाद मार्ग के पास रहने वाले अवनीश मिश्रा ने बताया कि गली में एक डाक्टर का अस्पताल है। उनके यहां मरीजों की सड़क पर लंबी लाइनें लगती है, कोई भी मास्क नहीं लगाता है। वाहनों का यह मार्ग शार्टकट बन गया है। रेता-बजरी लदी ट्रैक्टर ट्रालियां, टेंपो, आटो समेत तमाम वाहनों यहीं से आ रहे हैं। पिछले दिनों दो हादसे भी हो चुके हैं। गेट भी तोड़ दिया था। उसे ठीक कराकर लोगों ने गेट बंद कर दिया है। सार्वजनिक मार्ग बंद करना गंभीर अपराध

अधिवक्ता व पूर्व पार्षद राजेश तिवारी ने बताया कि किसी भी सार्वजनिक मार्ग को बंद करना गंभीर अपराध की श्रेणी में आता है। इसके साथ ही इसमें भूमाफिया वाली धाराएं भी जोड़ी जाती हैं। नगर निगम अधिनियम का धारा 296 के तहत नगर निगम को अपनी संपत्ति को कब्जे से छुड़ाने के लिए नोटिस देने की जरूरत नहीं होती। वह बिना नोटिस दिए कहीं भी सरकारी भूमि पर कब्जे को हटाकर कब्जा ले सकती है।

रामपुर गार्डन में सड़क बंद करने की जानकारी नहीं है। सार्वजनिक मार्ग पर किसी एक का अधिकार नहीं है। स्थानीय लोग गेट बंद नहीं कर सकते हैं, उसे तत्काल खुलवाया जाएगा।

डा. उमेश गौतम, महापौर गेट बंद करने की शिकायत नहीं मिली है। रामपुर गार्डन में टीम भेजकर गेट खुलवाया जाएगा। लोगों से दोबारा गेट बंद नहीं करने की अपील भी की जाएगी।

अजीत कुमार सिंह, अपर नगर आयुक्त

Edited By: Jagran