संवाद सहयोगी, आंवला (बरेली) : धर्मकांटा बंद कर छत पर बने मकान पर जा रहे संचालक को बदमाशों ने घेर लिया। पकड़कर ऊपर मकान पर ले गए। इस बीच उनकी पत्नी ने बच्चों के साथ खुद को कमरे में बंद कर लिया। मारपीट के विरोध पर बदमाशों ने धर्मकांटा संचालक को नीचे फेंक दिया। बाद में फिर उठाकर लाए। दबाव बनाकर उनकी पत्नी से गेट खुलवाया। साठ हजार की नकदी व मोबाइल लूट लिया।

गांव रमनगला निवासी ¨रकू उर्फ ओमेंद्र का गांव के बाहर बाजार में धर्मकांटा है। उसी भवन के ऊपर बने मकान में वह रहते हैं। बुधवार रात साढ़े आठ बजे धर्मकांटा बंद कर वह मकान पर जा रहे थे। उसी समय छह बदमाशों ने उन्हें घेर लिया। ऊपर मकान पर ले गए। इस दौरान उनकी पत्नी ने बच्चों के साथ खुद को कमरे में बंद कर लिया। विरोध पर बदमाशों ने ¨रकू के साथ मारपीट और छत से फेंक दिया। उसके बाद उन्हें फिर उठाकर ऊपर लाए। इस बीच उनकी पत्नी ने ससुर को फोन कर घटना की जानकारी दी। बताते हैं कि ससुर गांव में अलग रहते हैं। बदमाशों ने दबाव डालकर पत्नी से गेट खुलवाया। घर में रखे साठ हजार रुपये व मोबाइल लूट लिया। ससुर ग्रामीणों के साथ मौके पर पहुंचे। इस दौरान बदमाश जंगल की ओर भाग गए।

दो बदमाश थे नकाबपोश

घटना को छह बदमाशों ने अंजाम दिया था। ¨रकू के अनुसार छह बदमाश थे। इनमें से दो नकाबपोश थे। उन्होंने बताया कि वह मूल रूप से गांव थाना भमोरा क्षेत्र के गांव भरताना के रहने वाले हैं। छह माह पहले यहां रहना शुरू किया था।

दो घंटे के बाद मौके पर पहुंची पुलिस

घटना की सूचना मिलने के लगभग दो घंटे के बाद पुलिस मौके पर पहुंची। इस दौरान यूपी 100 को भी घटना की जानकारी दी गई थी लेकिन वह भी समय पर नहीं पहुंची।

घायल को सीएचसी में भर्ती कराया

बदमाशों की पिटाई से घायल हुए ¨रकू को सीएचसी में भर्ती कराया गया है। पीड़ित पक्ष की ओर से अभी तहरीर नहीं दी गई है।

Posted By: Jagran