पीलीभीत, जागरण संवाददाता। बीसलपुर तहसील में कार्यरत लेखपाल ने लगभग ढाई माह पहले दिव्यांग युवक को भूमि का पट्टा व आवास दिलाने का झांसा देकर 60 हजार रुपये ऐंठ लिए। लेकिन रकम देने के बाद भी युवक को भूमि तथा आवास नहीं मिला। वह बार बार लेखपाल से रकम लौटाने की गुहार करता रहा, लेकिन लेखपाल टालमटोल करने लगा। इस बीच युवक ने लेखपाल की घूसखोरी को अपने मोबाइल फोन में कैद कर लिया। मामले का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसके बाद प्रशासन हरकत में आ गया। आनन-फानन में जांच कराकर आरोपित लेखपाल को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया।


पीड़‍ित दिव्‍यांग।

बिलसंडा विकासखंड क्षेत्र के ग्राम दियोरिया कला निवासी भूमिहीन दिव्यांग युवक जितेंद्र कश्यप ढाई माह पूर्व अपने गांव क्षेत्र के लेखपाल सतीश बाबू राणा से मिला। उसने अपनी आर्थिक स्थिति बताते हुए कहा कि वह भूमिहीन है और दियोरिया कलां गांव में ही राकेश सिंह के मकान में किराए पर रह रहा है। उसके माता-पिता नहीं हैं और न ही वह विवाहित है। वह गांव में चाट का ठेला लगाकर अपना जीवन यापन कर रहा है। उक्त युवक के लेखपाल को यह बताने के बाद लेखपाल ने उसे अपने जाल में फांस लिया और उससे धीरे धीरे लगभग 60 हजार रूपये की रकम उसने लेकर डकार ली।

जितेंद्र कश्यप लेखपाल से जब जमीन के पट्टे तथा आवास को दिलाने की बात कहता तो लेखपाल उसे  टरका देता। समय बीतने के साथ-साथ जब युवक को यह महसूस हुआ कि लेखपाल सहयोग नहीं कर रहा है तो उसने एक दिन उसे अपने आवास पर बुलाकर लेखपाल को रुपये देते हुए उसकी वीडियो बना ली। इसी बीच सतीश बाबू राणा का स्थानांतरण बीसलपुर विकासखंड क्षेत्र के ग्राम सावेपुर हो गया। जिसके पश्चात जितेंद्र कश्यप ने उसकी रिश्वत लेते हुए वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल कर दी। वीडियो वायरल होते ही तहसीलदार देवेंद्र कुमार सिंह ने आरोपित लेखपाल सतीश बाबू राणा की जांच रिपोर्ट उप जिलाधिकारी ऋषि कांत राजवंशी को सौंप दी। उन्होंने तत्काल प्रभाव से उक्त लेखपाल को रिश्वतखोरी के मामले में निलंबित कर दिया।

एसडीएम बीसलपुर ऋषिकांत राजवंशी ने बताया कि लेखपाल सतीश बाबू राना का एक व्यक्ति से अवैध धन वसूली करने का वीडियो वायरल हो रहा है। जिसका संज्ञान लेते हुए जोगीठेर के राजस्व निरीक्षक से जांच कराई गई। जांच रिपोर्ट के आधार पर लेखपाल को तत्काल प्रभाव निलंबित कर दिया गया है। निलंबन के दौरान लेखपाल रजिस्टार कानूनगो तहसील बीसलपुर कार्यालय से संबद्ध रहेगा। इस मामले में विभागीय कार्रवाई के लिए तहसीलदार को जांच सौंपी गई है।

Edited By: Vivek Bajpai