बरेली, जेएनएन : गांव मकरी नवादा में कृष्णा जन्माष्टमी के अवसर पर निकाली जा रही शोभायात्रा में बवाल हो गया। दूसरे समुदाय के लोगों ने शोभायात्रा को रोककर पथराव शुरू कर दिया। जिससे भगदड़ मच गई। देखते ही देखते दोनों समुदाय के लोगों के बीच फरसा समेत अन्य हथियार चलने लगे। बंदूकें लहराने लगी। संघर्ष में महिला समेत पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। सूचना पर चार थानों की फोर्स व पीएसी पहुंची। उपद्रव कर रहे लोगों को लाठी फटकार घरों में खदेड़ा। तब जाकर स्थिति काबू में आई। इसके बाद घायलों को एंबुलेंस से अस्पताल भिजवाया गया।


थाना देवरनिया क्षेत्र का गांव मकरी नवादा मुस्लिम बहुल है। गांव में शुक्रवार को लोग कृष्णा जन्माष्टमी मना रहे थे। परंपरा के अनुसार दोपहर में शोभायात्रा निकाली जानी थी, लेकिन जुमे की नमाज के कारण शोभायात्रा का समय तीन बजे रखा गया था। बताते हैं, दोपहर करीब तीन बजे शोभायात्रा में शामिल ट्रैक्टर ट्रॉली जैसे ही अपने अंतिम पड़ाव के तहत गांव के होली चौराहे पर पहुंची, तभी दूसरे समुदाय के लोगों ने शोभायात्रा को रोक लिया। जिस पर दोनों समुदाय के लोग आमने-सामने आ गए। इसी दौरान अचानक शोभायात्रा पर पथराव शुरू हो गया। जिससे भगदड़ मच गई।

शोभायात्रा में शामिल लोग जान बचाकर इधर-उधर छिपने लगे। वहीं, दोनों समुदाय के लोगों के बीच संघर्ष के दौरान फरसा व अन्य हथियार चलने लगे। बंदूकें भी लहराई गईं। सूचना पर थानाध्यक्ष देवरनिया और सीओ आलोक अग्रहरि मौके पर पहुंचे। चार थानों की फोर्स व पीएससी बुला ली गई। पुलिस फोर्स ने लाठी फटकार दोनों समुदाय के लोगों को घरों में खदेड़ दिया। तब जाकर स्थिति काबू में आई। इसके बाद एसपी देहात संसार ङ्क्षसह गांव पहुंचे। गांव के लोगों से बवाल के बारे में जानकारी ली। दो समुदाय के बीच तनाव को देखते हुए गांव को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। मामले में एसपी देहात का कहना है कि माहौल खराब करने वालों को चिह्नित कर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Abhishek Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस