बरेली, जेएनएन। Indian Railways: हरियाणा से आंवला तेल डिपो में पेट्रोल-डीजल लेकर आइ 50 टैंक की एक रेक बर्निंग ट्रेन बनने से बच गई। इस ट्रेन के 32 रेक में सील खुली थी। जिससे शार्ट सर्किट से बर्निंग ट्रेन बनने व तेल चोरी होने का भी खतरा था। आंवला डिपो में टैंक की सील खुली होने पर आरपीएफ को मामले की जानकारी दी गई। आरपीएफ की मौजूदगी में तेल की हुई जांच में तेल पूरा निकला। बताया जा रहा है कि टैंक में हरियाणा से ही सील खुली आइ थी।

आंवला स्थित भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड के आंवला डिपो में हरियाणा से बुधवार की रात 50 टैंक की एक मालगाड़ी से पेट्रोल-डीजल रात 10 बजे आंवला स्टेशन पहुंचा था। जिसे आंवला डिपो के अंदर गुरुवार सुबह 3.30 बजे लिया गया। यहां कर्मचारियों ने टैंक के ऊपर के ढक्कनों की सील खुली मिली। जबकि टैंक से तेल निकाले जाने वाली जगह पर सभी सील लगी हुई थी।

RPF से तलब की रिपाेर्ट 

बीपीसीएल के डिपो मैनेजर ने फिर भी तेल चोरी होने की संभावना जताते हुए इस संबंध में मुरादाबाद कामर्शियल विभाग के अधिकारियों को फोन पर सूचना देते हुए बताया कि 32 टैंक की सील खुली हुई है। रेल अधिकारी अपने नेतृत्व में आकर सभी टैंक की नाप कराने को कहा। सील खुली होने की जानकारी पर मुरादाबाद मंडल कार्यालय में हड़कंप मच गया। सीनियर कमांडेंट ने बरेली आरपीएफ से मामले की रिपोर्ट तलब की।

32 टैंकाें की खुली मिली सील 

मामले में आरपीएफ थाना प्रभारी निरीक्षक विपिन कुमार शिशौदिया ने बताया कि डीजल-पेट्रोल की 50 टैंक वाली रेक में 32 टैंकों की सील खुली हुई थी। जानकारी पर पता चला कि हरियाणा आयल डिपो से ही टैंक ढक्कन में सील नहीं लगाई गई थी। जबकि तेल निकासी के सभी ढक्कन सील थे। वहीं देर शाम जांच में तेल भी पूरा पाया गया।

Edited By: Ravi Mishra