पीलीभीत, जेएनएन : वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में जिला निर्वाचन कार्यालय के तत्कालीन कैशियर ने साढ़े तीन लाख रुपये का गबन कर लिया। तत्कालीन सहायक निर्वाचन अधिकारी और तत्कालीन कैशियर के खिलाफ सरकारी धन का गबन का मुकदमा दर्ज कराया गया था। तब से दोनों आरोपित फरार थे। कोतवाली पुलिस ने सोमवार की रात दबिश देकर आरोपित कैशियर को गिरफ्तार कर लिया। मंगलवार को जेल भेज दिया गया है। वहीं दूसरे आरोपित की तलाश जारी है। 

जिला निर्वाचन कार्यालय में वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव के दौरान शासन से चार लाख 54 हजार 425 रुपये का बजट आया। इस रकम को चुनाव ड्यूटी करने वाले कर्मचारियों के सूक्ष्म जलपान और यात्रा भत्ता पर खर्च किया जाना था, लेकिन कार्यालय के तत्कालीन कैशियर शैलेंद्र जौहरी, निवासी सुभाषनगर कॉलोनी ने कार्यालय के तत्कालीन सहायक निर्वाचन अधिकारी शिव शर्मा के साथ मिलकर गोलमाल किया। बैंक में फर्जी ट्रेजरी चालान के माध्यम से तीन लाख 54 हजार 425 रुपये निकाल लिए। चुनाव के बाद जब बजट की समीक्षा की गई तो गड़बड़ी सामने आई। वर्तमान कैशियर दीपेंद्र जौहरी की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने सरकारी धन में घोटाला करने के मामले में तत्कालीन कैशियर और तत्कालीन सहायक निर्वाचन अधिकारी पर मुकदमा दर्ज किया था।  

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस