बरेली, जेएनएन।  वन विभाग की जमीन पर एक कालोनाइजर ने हरे भरे पेड़ कटवा दिए। इसकी शिकायत ग्रामीणों ने डीएफओ से की। सूचना पर जब फारेस्टर मौके पर पहुंचे तो वहां मौजूद कालोनाइजर के गुर्गों ने उनसे अभद्रता की। फारेस्टर ने अपने साथ हुई अभद्रता की की सूचना रेंजर वैभव चौधरी को दी। सेक्सन इंचार्ज भी पहुंच गए और वहां चल रही एक जेसीबी को अपने कब्जे में ले लिया जबकि दो जेसीबी वहां से फरार हो गई। मामले में वन विभाग की ओर से मुकदमा दर्ज कर जेसीबी को सीज किया गया है।

मामला बरेली-रामपुर हाइवे किनारे सीबीगंज क्षेत्र के जेलर बाग का है। मथुरापुर के पास स्थित जेलर बाग बरेली के एक बड़े एक प्रापर्टी डीलर ने खरीद लिया है। बताया जाता है कि बाग के आगे वन विभाग की जमीन पड़ी है। जिस पर हरे भरे पेड़ व बांस खड़े हुए हैं। प्रापर्टी डीलर ने तीन जेसीबी लगाकर वन विभाग की जमीन पर खड़े पेड़ कटवा कर जमीन एक सी करा दी।

जब इसकी सूचना फारेस्टर ओमकार को मिली तो वे मौके पर पहुंचे उन्होंने प्रापर्टी डीलर के लोगों से परमिशन दिखाने को कहा। जिस पर वहां मौजूद लोग उनसे अभद्रता करने लगे। फारेस्टर की सूचना पर सेक्सन इंचार्ज गुलशन भी मौके पर पहुंचे।मौके से एक जेसीबी को उन्होंने पकड़ लिया जबकि दो जेसीबी वहां से फरार हो गयी। जेसीबी को सीबीगंज स्थित वन विभाग के ऑफिस पर लाकर खड़ा कराया गया साथ ही मामले में एक आरोपित सर्वजीत सिंह बख्शी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

कभी हरा भरा हुआ करता था जेलर बाग

दशको से रामपुर रोड किनारे लगभग 350 बीघा जमीन पर जेलर साहब का बाग था। दो वर्ष पूर्व तक यह हरा-भरा हुआ करता था। यहां पर आम शीशम सहित अन्य प्रजातियों के ढाई हजार से अधिक से पेड़ लहलहा रहे थे लेकिन, अवैध कटान करने वालों की नजर उस पर ऐसी पड़ी की धीरे-धीरे पूरा जेलर बाग साफ कर दिया। इसमें वन विभाग की भी मिलीभगत होती थी। चंद पेड़ काटने की परमिशन लेकर दर्जनों पेड़ कटवा दिए जाते थे। इस समय जेलर बाग समतल जमीन में बदल गया है। अब वहां पेड़ के नाम पर कुछ भी नहीं है। बस हाईवे पर ही कुछ पेड़ दिखाई पड़ते हैं जो कि वन विभाग की जमीन में लगे हैं। जिसे अब प्रापर्टी डीलर काट रहे हैं। इलाके के सभासद धर्मवीर साहू का कहना है कि उन्हें कई बार इसकी शिकायत वन विभाग से किया लेकिन, उसका कोई नतीजा नहीं निकला।

आरोपित द्वारा अपनी जमीन पर लगे आठ हरे पौध व वन विभाग का बंबू प्लांटेशन को क्षति पहुंचाई गई। शिकायत मिलने पर मौके पर मिली जेसीबी को कार्रवाई के लिए जब्त किया गया है। इसके साथ ही आरोपितों के खिलाफ बिना अनुमति के हरे पौध को नुकसान पहुंचाने की कार्रवाई की जा रही है। - वैभव चौधरी, क्षेत्रीय वन अधिकारी

Edited By: Ravi Mishra