जागरण संवाददाता, बरेली: परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने या जीवन में सफल होने के लिए कोई शार्टकट नहीं है। हमें हर किसी से, हर जगह, किसी भी समय नई जानकारी लेने की आदत विकसित करनी होगी। खुद को ही सर्वश्रेष्ठ मान लेने पर कभी सफल नहीं हो सकते। यह बातें जिलाधिकारी ने उनके आवास पर पहुंचे छात्रों को बताईं। डीएम मानवेंद्र सिंह का बंगला देखने के बाद छात्रों में अधिकारी बनने की ललक दिखाई दी।

मिशन टापर मुहिम के तहत रविवार को डीआइओएस के निर्देशन में मेधावी छात्रों ने जिलाधिकारी आवास का भ्रमण किया। छात्रों ने जीवन में सफल होने के संबंध में प्रश्न भी किए। जिलाधिकारी ने बताया कि सफल होने के लिए सबसे पहले लक्ष्य निर्धारित करें। कई बार विद्यार्थी मन में बैठा लेते हैं कि वह सामान्य स्कूल में पढ़ रहे हैं, इस सोच को निकालना होगा। वह खुद यूपी बोर्ड से पढ़े हैं। अभावग्रस्त व्यक्ति ही विशेष से विशिष्ट बनता है। डीआइओएस डा. मुकेश कुमार सिंह ने कहा कि आगामी बोर्ड परीक्षाओं में सभी स्कूलों से चिह्नित छात्रों को प्रथम स्थान प्राप्त कराने के उद्देश्य से यह पहल की गई। राजकीय इंटर कालेज के प्रधानाचार्य बीएल गौतम, राजकीय माडल इंटर कालेज के प्रधानाचार्य डा. अवनीश यादव आदि मौजूद रहे।

----

जिलाधिकारी आवास देखना सपना था, जो मेधावी छात्र के रूप में चयनित होकर पूरा हुआ।

- लक्ष्य कुमार जिलाधिकारी आवास जाकर अधिकारी बनने की इच्छाशक्ति मजबूत हो गई। खुद को साबित करना है।

- अमन मौर्य सिविल परीक्षा की तैयारी किस तरह की जाए। इसके बारे में खुद डीएम सर से जानकारी हुई।

- शिवानी सिह डीएम की बातें सुनकर समझा कि अनुशासित व मेहनत के आधार पर सफलता हासिल की जा सकती है।

- एकता सिंह

Edited By: Jagran