बरेली, जेएनएन। Court Order News : पढेरा का तस्कर प्रधान शहीद खां उर्फ छोटे के बाद उसके स्वजन व पार्टनरों पर शिकंजा कसता जा रहा है। बुधवार को तस्कर प्रधान की दोनों बीवियों कामिनी व तरीकत, भाई सलीम, उसकी बीबी किशोरी, दोनों बेटे व पार्टनर फैयाज के खिलाफ कोर्ट ने गैर जमानती वारंट जारी कर दिया। विवेचक की अर्जी पर विशेष जज एनडीपीएस एक्ट प्रणविजय सिंह की कोर्ट ने सातों तस्करों के खिलाफ एनबीडब्ल्यू जारी किया है।

18 अगस्त को पढेरा का तस्कर प्रधान शहीद खां उर्फ छोटे पुलिस के हत्थे चढ़ा था। प्रधान व उसके भतीजे सैफ उर्फ राजू को पुलिस ने 20 किलो स्मैक के साथ उसके घर से गिरफ्तार किया था। शहीद खां व सैफ की गिरफ्तारी के बाद स्वजन घर छोड़कर भाग गए। शुरुआती तफ्तीश में ही पुलिस को तस्कर के पूरे परिवार के तस्करी के काम में शामिल होने के सुबूत मिले। इसी के बाद पुलिस ने शहीद खां उर्फ छोटे, भतीजे सैफ, भाई सलीम, शोहेब, फईम, नईम, वसीम, मुन्ना व हसीम के खिलाफ एनडीपीएस की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की।

विवेचना में शहीद खां के ढाई लाख के ईनामी तस्कर तैमूर उर्फ भोला का फूफा होने की बात सामने आई। रिमांड पर लेकर की गई पूछताछ में शहीद खां ने कुबूला था कि वह तैमूर का भाई फरमान व गट्टू के जरिए उत्तराखंड, दिल्ली, हरियाण, पंजाब, नेपाल, झारखंड तक स्मैक सप्लाई करता था। तस्करी की रकम से प्रधान द्वारा बनाई गई अरबों की संपत्ति की बात सामने आ चुकी है। फिलहाल, अब सात आरोपितों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी होने के बाद तस्करों के बचने के विकल्प बंद हो गए हैं।

मुकदमे में अब तक 25 को बनाया जा चुका है आरोपित

दर्ज किये गए मुकदमे में पुलिस ने नौ को स्मैक तस्करी का आरोपित बनाया था। विवेचना के बाद अब तक मुकदमे में 25 लोगों को आरोपित बनाया जा चुका है। सामने आए 16 अन्य नामों को भी मुकदमे में शामिल किया गया है। शहीद खां व सैफ उर्फ राजू के अलावा सभी फरार चल रहे हैं। तस्करों के घरों में ताला लगा हुआ है।

कोर्ट ने सात तस्करों के गैर जमानती वारंट जारी किये हैं। सभी की गिरफ्तारी का प्रयास जारी है। जल्द ही मामले में नामजद तस्करों की गिरफ्तारी की जाएगी। - राजकुमार अग्रवाल, एसपी देहात

Edited By: Ravi Mishra