बरेली, जेएनएन। Corona Vaccination : बरेली में शुक्रवार को वैक्सीनेशन का पहला चरण शुरु हुआ। टीकाकरण की शुरुआत डा विनोद पागरानी से हुई। जिन्हें कोरोना का पहला टीका लगाया गया। शासन से मिली गाइडलाइन के मुताबिक शुक्रवार को पहले चरण का दूसरा वैक्सीनेशन जिले के 25 केंद्रों पर चल रहा है। यह वैक्सीन सुबह नौ से शाम पांच बजे तक लगाई जाएगी। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने 49 सेशन बनाए हैं, जिनमें 4900 सेहत के रखवालों यानी स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड का टीका लग रहा है। इससे पहले 16 जनवरी को पहले चरण का ट्रायल हुआ था। इसमें प्रदेश में औसत वैरिफिकेशन 71.43 फीसद निकला था। वहीं, बरेली में 66.5 प्रतिशत स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन लगाई गई थी। चूंकि बरेली का औसत प्रदेश के मुकाबले कम था, ऐसे में जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने शुक्रवार को ज्यादा वैक्सीनेशन की तैयारी की है।

15 सरकारी और 10 निजी वैक्सीनेशन केंद्र : स्वास्थ्य अधिकारियों और कर्मचारियों का 15 सरकारी और 10 निजी केंद्रों पर वैक्सीनेशन होगा। 16 जनवरी को जिन लोगों को टीका लगाया गया है, उनका अगला डोज 15 फरवरी निर्धारित है। कोविन पोर्टल पर पंजीकृत सभी लोग टीकाकरण केंद्र पर समय से पहुंचें। सोमवार को जिलाधिकारी नितीश कुमार और एसएसपी ने स्वास्थ्य महकमे के अधिकारियों के साथ बैठक कर तैयारियों का जायजा लिया।

 महिला जिला अस्पताल में पहला टीकाकरण हुआ था। वैक्सीन लगने के बाद हमें कोई भी दिक्कत नहीं हुई। उसी दिन से रोज कार्यालय भी जा रहा हूं। - अजय कनौजिया, फार्मासिस्ट

वैक्सीनेशन के बाद किसी तरह की दिक्कत नहीं हुई है। लिस्ट में जिसका भी नाम है, वे वैक्सीनेशन जरूर करवाएं। मेरे पति भी फिजीशियन हैं, कल वह भी वैक्सीनेशन जरूर करवाएंगे। - डॉ. प्रीति गुप्ता, स्त्री रोग विशेषज्ञ

वैक्सीनेशन के बाद किसी तरह की शारीरिक दिक्कत महसूस नहीं हुई है। यह एक सुरक्षित वैक्सीन है। हम सभी को आगे आना चाहिए और किसी भी तरह के भ्रम में नहीं पडऩा चाहिए। -नीरज गुप्ता, फार्मासिस्ट

टीका लगवाने से पहले दें सभी लोग पूरी जानकारी

एलर्जी, बुखार, रक्त बहने या रक्त पतला करने की कोई दवा ले रहे हैं। अगर हां, तो कितने समय पहले ली।

किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं या किसी तरह का इलाज चल रहा है। विशेषज्ञ से सलाह ली है या नहीं।

प्रतिरक्षा क्षमता कम है तो संबंधित स्वास्थ्य अधिकारी को जानकारी दें। जिससे विशेष ध्यान रखा जा सके।

गर्भवती या स्तनपान करा रही महिलाएं भी टीका लगने से पूर्व बताएं। इन्हें टीका नहीं लगना है।

डॉ.अतुल ने किया ट्वीट : बाल रोग विशेषज्ञ डॉ.अतुल अग्रवाल ने प्रधानमंत्री को किए ट्वीट में टीकाकरण बढ़ाने, शहर के गणमान्य लोगों को वाक इन रजिस्ट्रेशन की अनुमति देने की मांग की है।

वैक्सीनेटर और वैरिफायर को फिर दिया प्रशिक्षण

अपर निदेशक स्वास्थ्य के कार्यालय प्रांगण में गुरुवार को सभी सेशन के वैरिफायर और वैक्सीनेटर व संबंधित अन्य कर्मचारियों को फिर से प्रशिक्षण दिया गया। इस दौरान कोविन एप पर फी¨डग, वैक्सीन लगाने से पहले और बाद की गतिविधियों की जानकारी दी गई।

आइएलआर के बाद और वैक्सीन की जरूरत

पहले चरण में 49 सेशन पर वैक्सीनेशन होना है। इसके लिए 25 केंद्र बने हैं। हालांकि पांच आइस लाइंड रेफ्रीजरेटर आ चुके हैं। इसके अलावा 22, 28 और 29 जनवरी को वैक्सीनेशन में अगर सभी 15 हजार लोगों को टीका लगाया गया तो दूसरा टीका लगवाने के लिए और वैक्सीन की जरूरत पड़ेगी।

इस तरह के लक्षण आम बात

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. आरएन सिंह ने बताया कि कोविशील्ड का इंजेक्शन लगने के बाद कई प्रतिकूल प्रभाव दिखते हैं। इनमें तबीयत ठीक न लगना, थकान, कंपकपी या बुखार सा लगना, मतली, सिर, जोड़ों या मांसपेशियों में दर्द की शिकायत हो सकती है। इसका मतलब टीका असर कर रहा है। यह किसी भी वैक्सीन लगने के बाद हो सकते हैं।

दुष्प्रभाव दिखे तो यहां दें जानकारी

वैक्सीन लगने के बाद कुछ घंटों बाद यदि कोई साइड इफेक्ट दिखता है तो वैक्सीन लगाने वाले स्वास्थ्यकर्मी या टोल फ्री नंबर पर तत्काल जानकारी दे सकते हैं।

जिला कोविड कमांड केंद्र : 0581-2428914

प्रदेश हेल्पलाइन नंबर : 104 (टोल फ्री)

राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर : 1075 (टोल फ्री)

कोविड-19 टीकाकरण के लिए गुरुवार को पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों संग बैठक हुई। यही नहीं, वैक्सीनेटर, वैरिफायर आदि स्टाफ को दोबारा ट्रेनिंग दी गई है। पंजीकृत सभी स्वास्थ्य अधिकारी और कर्मचारी टीकाकरण केंद्र पर समय से पहुंचें। जिससे समय पर सभी को वैक्सीन लगाई जा सके। - डॉ.एसके गर्ग, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, बरेली 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप