बरेली, जेएनएन। तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस के बावजूद स्थानीय मीरगंज ब्लॉक परिसर पर नामांकन पत्र बिक्री के दौरान कोविड नियम तार-तार रहे।यहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नही हो रहा है।जैसे जैसे पंचायत चुनाव के नामांकन की तारीख करीब आ रही है । प्रत्याशियों के दिलों की धड़कन तेज़ होती जा रहीं है। नामांकन प्रपत्रों की बिक्री शुरू हो चुकी है। जिला निर्वाचन अधिकारी स्तर से प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी रोहित सिंह मीरगंज ब्लॉक का निर्वाचन बनाया गया है। जबकि ट्रेड टैक्स के सहायक आयुक्त चंद्रकांत भूषण को फ़तेहगंज पश्चिमी निर्वाचन अधिकारी नियुक्त किया गया है। वहीं आनंद सिंह को शेरगढ़ का निर्वाचन अधिकारी बनाकर पंचायत निर्वाचन संपन्न कराने का जिम्मा सौंपा गया है। स्थानीय ब्लॉक सभागार पर नामांकन प्रपत्रों की बिक्री कई दिन से चल रही है। प्रधान ,सदस्य ग्राम पंचायत और सदस्य क्षेत्र पंचायत के लिए अलग अलग पटल की व्यवस्था की गई है। फिर भी दावेदारों का जमावड़ा लग रहा है। बुधवार को ब्लॉक सभागार में खासी भीड़ देखने को मिली। खासकर उन प्रत्याशियों में ज्यादा उत्साह था जो युवा हैं  और पहली बार चुनाव मैदान में हैं। हर दावेदार एक की बजाय तीन-तीन नामांकन पत्र खरीद रहा है। जिस कारण धक्कामुकी ,हंगामे की स्थिति बन रही है। तहसील से एसडीओ न्यायिक ममता मालवीय , सीओ सुनील कुमार राय ,एसएचओ दयाशंकर पल पल की स्थिति का जायजा लेते रहे।सहायक विकास अधिकारी (पंचायत )नरेंद्र कुमार गुप्ता के अनुसार मीरगंज ब्लॉक पर बुधवार को प्रधान पद के 253, क्षेत्र पंचायत सदस्य के 149 व गांव पंचायत सदस्य के 120 पर्चे बिके।इसी तरह फ़तेहगंज पश्चिमी के सहायक विकास अधिकारी ( पंचायत) छत्र पाल गंगवार के अनुसार प्रधान पद हेतु 222,सदस्य गांव पंचायत हेतु 64 ,सदस्य क्षेत्र पंचायत हेतु 139 नामांकन प्रपत्र को दावेदारों ने निर्धारित शुल्क-धनराशि जमा कर खरीदा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप