जेएनएन, शाहजहांपुर : पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के आरोप में जिला जेल में बंद छात्र से रविवार को उसके पिता, मां व भाई मिलने पहुंचे। इसके बाद छात्र के पिता ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर उनकी बेटी का प्रवेश शासन ने रुहेलखंड विश्वविद्यालय में कराया है। इसके लिए भी उन लोगों को काफी प्रयास करने पड़े। अब बेटी की परीक्षा की तैयारी ठीक से कर सके इसलिए विवि प्रशासन किताबें व सामग्री उपलब्ध कराए। उन्होंने कहा कि अगर हाजिरी कम होने के कारण बेटी को परीक्षा देने से रोका जाता है या फिर जरूरी किताबें न मिल पाने के कारण उनकी बेटी का साल खराब हुआ तो इसके जिम्मेदार पूरी तरह से जेल व विवि प्रशासन होंगे।

हाईकोर्ट से तारीख मिलने का इंतजार : छात्र के पिता ने कहा कि उन्होंने बेटी को जमानत दिलाने के लिए हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल की है। अभी उस पर कोई तारीख नहीं मिली है। वह इंतजार कर रहे हैं कि जल्द से जल्द सुनवाई की तारीख नियत हो। ताकि वह अपना पक्ष रखकर बेटी को जेल से बाहर ला सकें और वह परीक्षा की अच्छी तरह से तैयारी कर सके।

समझौते के दबाव के लिए गैंगस्टर का प्रयास : चिन्मयानंद की ओर से छात्र पर गैंगस्टर के लिए अर्जी दिए जाने पर छात्र के पिता ने कहा कि यह सब उन लोगों को परेशान करने के लिए हो रहा है। चिन्मयानंद का पक्ष उन लोगों पर इस तरह से दबाव बना रहा है ताकि वे लोग समझौते के लिए मान जाएं, लेकिन वे लोग अपनी कोशिशों में सफल नहीं होंगे।

गैंग बनाकर किया अपराध किया तो गैंगस्टर लगे : चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के आरोप में छात्र व तीनों युवकों पर गैंगस्टर लगाने की बात कही। उनका कहना है कि चारों लोगों ने सुनियोजित तरीके से यह काम किया है। वकील पूजा सिंह ने कहा कि पहले चिन्मयानंद के वीडियो बनाए गए और फिर उनसे पांच करोड़ की रंगदारी मांगी गई। यह बात वायरल वीडियो, एसआइटी की जांच व चारों आरोपितों के बयानों से सामने भी आ चुकी है। ऐसे में इन पर गैंगस्टर की कार्रवाई बनती है। शनिवार शाम को सीजेएम कोर्ट में अर्जी दे दी गई है। कोर्ट में प्रयास किया जाएगा कि इस धारा को चारों पर बढ़ाया जाए।

कल हाईकोर्ट में अपनी रिपोर्ट दाखिल करेगी एसआइटी : दुष्कर्म व रंगदारी मामले में जांच कर रही एसआइटी मंगलवार को हाईकोर्ट में अपनी रिपोर्ट दाखिल करेगी। साक्ष्य पुख्ता करने के लिए पहली स्टेटस रिपोर्ट के बाद अब तक लिए गए बयानों व दोनों प्रकरण में की गई कार्रवाई का आपस में लिंक जोड़ रही है। माना जा रहा है कि हाईकोर्ट जांच पूरी करने के लिए अभी कुछ और समय भी दे सकती है।

कार्रवाई के लिए एसआइटी पेश करेगी अपनी दूसरी रिपोर्ट : सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर शासन की ओर से गठित एसआइटी छह सितंबर से चिन्मयानंद पर लगे दुष्कर्म व उनसे पांच करोड़ की रंगदारी मांगने के मामले में जांच कर रही है। टीम चिन्मयानंद व छात्र समेत पांचों मुख्य आरोपितों को जेल भेज चुकी है। हाईकोर्ट में २३ सितंबर को पहली स्टेटस रिपोर्ट दाखिल कर चुकी है। अब उसे २२ अक्टूबर को अपनी दूसरी रिपोर्ट देनी है। कुछ जांच व एसआइटी की कार्रवाई को कोर्ट में पुख्ता करने के लिए जरूरी हैं। इसीलिए कल रिपोर्ट दाखिल की जाएगी।

जेल में ही मनेगी चिन्मयानंद सहित पांचों की दीपावली : चिन्मयानंद, छात्र व तीनों युवकों की दीपावली जेल में ही मनेगी। छात्र की जमानत अर्जी हाईकोर्ट में दाखिल की जा चुकी है, लेकिन उस पर अभी सुनवाई के लिए कोई तारीख नहीं मिली है। जबकि चिन्मयानंद व उनसे रंगदारी मांगने के तीनों युवकों की जमानत अर्जी दीपावली बाद दी जा सकती है।

 

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप