बरेली, जेएनएन। ज्वैलरी लेने के बहाने दिनदहाड़े टप्पेबाज सोना लेकर भाग निकला। सर्राफ की दुकान पर लगे सीसीटीवी कैमरे में पूरी घटना कैद हो गई है लेकिन, आरोपित का चेहरा साफ नहीं आया है। चेहरा धुंधला ही दिख रहा है। कैंट पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर टप्पेबाज की शिनाख्त शुरू कर दी है।

कैंट पुलिस के मुताबिक, सर्राफ पुनीत कुमार सदर बाजार के रहने वाले हैं। यही पर उनकी दुकान है। रोज की तरह मंगलवार सुबह उन्होंने दस बजे दुकान खोली। साढ़े दस बजे के करीब एक युवक आया और कानों के कुंडल लेने की बात कही। पसंद के लिए सर्राफ ने उसे डिब्बा दे दिया। कोई कुछ समझ पाता कि इतनी ही देर में वह डिब्बा लेकर भाग निकला। थोड़ी देर बाद फिर कानों के कुंडल के डिब्बे की जरूरत पड़ी तो वह गायब मिले। पूरे दुकान में ढूंढा गया लेकिन, नहीं मिला। आए युवक पर शक हुआ तो सीसीटीवी कैमरे चेक हुए।

सीसीटीवी फुटेज में युवक डिब्बा ले जाते दिखा। वह मुंह भी नहीं ढके था लेकिन, फुटेज में उसका चेहरा धुंधला आ रहा है। सर्राफ के मुताबिक, युवक स्थानीय ही लग रहा है। उसका बोलचाल का तरीका स्थानीय ही था। एसएसआइ कैंट ने बताया कि मामले में रिपोर्ट दर्ज कर आरोपित युवक की शिनाख्त कराई जा रही है। सर्राफ ने डिब्बे में 180 ग्राम ज्वैलरी होने की बात बताई है।

14 अवैध वेंडरों को किया गिरफ्तार: ट्रेनों और स्टेशन पर अवैध रूप से वेंडरिंग करने वालों पर आरपीएफ लगातार कार्रवाई कर रहा है। सोमवार देर रात और मंगलवार को आरपीएफ बरेली जंक्शन ने अवैध वेंडरों की धरपकड़ के लिए अभियान चलाया। जिसमें 14 अवैध वेंडरों को पकड़ा गया। आरपीएफ उप निरीक्षक नवल सिंह ने बताया कि पकड़े गए वेंडरों के पास कोई वैध प्रमाण पत्र नहीं था। इसके साथ ही सभी ट्रेनों और प्लेटफार्म पर यात्रियों को मनमाने दामों पर खाने पीने की वस्तुएं बेच रहे थे। इनके पास से बेची जा रही खाने पीने का सामान भी बरामद किया। फिलहाल सभी के खिलाफ रेलवे एक्ट में कार्रवाई करते हुए कोर्ट में पेश कर जेल भेजा गया है।

Edited By: Vivek Bajpai