बरेली, जेएनएन।Bareilly Coronavirus Infection News : कोरोना संक्रमण को लेकर हमारी लापरवाही अपने रंग दिखाने लगी है। जिले में पहली बार कोरोना संक्रमितों की संख्या तीन सौ के पार पहुंची है। मंगलवार को 2,551 कोविड जांचों की रिपोर्ट में 328 संक्रमित केस मिले हैं। आंकड़ों का हिसाब लगाएं तो हर आठ शख्स में एक संक्रमित पाया गया है। इतनी तेजी से संक्रमण कोरोना की पहली लहर में भी नहीं फैला था।

ये आंकड़े बता रहे हैं कि अगर अब भी अगर संक्रमण को लेकर हम जागरूक नहीं हुए और कोविड गाइडलाइन का पालन करना शुरू नहीं किया तो संभव है कि ये लापरवाही हमें लॉकडाउन की तरफ धकेल दे।जिला सर्विलांस अधिकारी डा. रंजन गौतम ने बताया कि कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग हर संभव कोशिश कर रहा है। लोगों को ज्यादा जागरूक होना पड़ेगा। लापरवाही संक्रमितों की संख्या और बढ़ा सकती है।

करीब सात हजार लोगों से दूर आरआरटी

जिले में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 1641 तक पहुंच चुकी है। इनमें से रैपिड रेस्पांस टीम (आरआरटी) करीब नौ हजार लोगों तक ही पहुंच पाई है। यानी, करीब सात हजार लोगों तक आरआरटी टीम नहीं पहुंच सकी है।इसमें अगर मंगलवार को संक्रमित मिले 328 लोगों को हटा भी दें, तब भी आरआरटी साढ़े छह हजार लोगों को ट्रेस नहीं कर पाई है। मंगलवार को रैपिड रेस्पांस टीम ने 126 संक्रमितों को ट्रेस किया।

227 का होम आइसोलेशन, 52 को छुट्टी

मंगलवार को मिले संक्रमितों में 227 लोगों ने होम आइसोलेशन चुना। ट्रेस हुए शेष कोरोना संक्रमितों को कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं, अन्य को ट्रेस किया जा रहा है। इसके अलावा 52 लोगों का होम आइसोलेशन पूरा हुआ। वहीं, अस्पताल में भर्ती आठ लोगों ने कोरोना संक्रमण को मात दी। जिसके बाद उन्हें जरूरी हिदायत देकर घर भेज दिया गया।

पिछले कुछ दिनों में यूं बढ़ा संक्रमण

06 अप्रैल 64

07 अप्रैल 120

08 अप्रैल 110

09 अप्रैल 130

10 अप्रैल 203

11 अप्रैल 185

12 अप्रैल 179

कोरोना संक्रमण से दो लोगों की मौत

बरेली। उत्तर रेलवे में सीनियर सेक्शन इंजीनियर (एसएसई) के पद पर कार्यरत 55 वर्षीय बुजुर्ग बीते एक हफ्ते से बीमार थे। शील चौराहे के एक निजी अस्पताल में इनका इलाज चल रहा था। जांच में उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद सोमवार देर रात उन्होंने दम तोड़ दिया। जंक्शन के सीएंडडब्ल्यू विभाग में सीनियर सेक्शन इंजीनियर व वाशिंग लाइन के इंचार्ज थे। वहीं फरीदपुर निवासी संक्रमित मरीज जिनका इलाज पिछले एक सप्ताह से निजी मेडिकल कॉलेज में चल रहा था। हाल ही में उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। मंगलवार दोपहर में करीब एक बजे इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप