बरेली, जेएनएन। Bareilly 300 Bed Covid Hospital : कोरोना संक्रमण शुरू होने से लेकर अब तक चर्चा में रहा 300 बेड अस्पताल एक बार फिर से चर्चा में है। अब वहां पर प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डा. सतीश चंद्रा ने कर्मचारियों के सहयोग ना करने, मानसिक रूप से उत्पीड़न करने और षड़यंत्र रचने का आरोप लगाकर पद से हटाए जाने की मांग सीएमओ से की है। बीते दिनों से हो रहे बवाल के बाद डा. सतीश चंद्रा ने एडी हेल्थ और सीएमओ को पत्र भेज दिया गया।

डा. सतीश चंद्रा ने उन्हें 300 बेड अस्पताल का प्रभारी बनाए जाने से लेकर अब तक का सारा दर्द बयां कर दिया। सोमवार को उन्होंने साथी कर्मचारियों पर गंभीर आरोप लगाते हुए पद से हटाए जाने की बात कही है। उनका कहना है कि अस्पताल में व्याप्त अव्यवस्थाओं को दूर करने और कर्मचारियों से नियमित तौर पर काम कराने की वजह से उनको षड़यंत्रों में फंसाया जा रहा है।

इन मामलों में चर्चा में रहे

बिजनौर जिले में सतीश चंद्रा के खिलाफ वित्तीय अनियमितता के आरोप लगे थे। हाईकोर्ट ने इन्हें वित्तीय संबंधी प्रभार एवं प्रशासनिक जिम्म्मेदारी देने से इन्कार किया था। उनके मामले में सीबीआई जांच चल रही है।

300 बेड अस्पताल में सैंपल तोड़ने के मामले में भी इनका नाम लिया गया था और तात्कालीन प्रभारी डा. पवन कपाही को प्रभार से हटाया गया था।

कर्मचारियों ने मानसिक उत्पीड़न एवं तानाशाही रवैया अपनाने की शिकायत सीएमओ से की थी।

लैब टेक्नीिशियन को संक्रमित होने के बाद भी होम आइसोलेशन से बुलाने और जांच कराने के मामले में भी बवाल हुआ था।

प्रशासनिक मामलों में सख्ती बरतने की वजह से अधिकांश कर्मचारी इनसे नाराज थे।

300 बेड अस्पताल में एक लिपिक से भी लंबे समय से चल रहा था मनमुटाव।

डा. सतीश चंद्रा ने 300 बेड अस्प्ताल का प्रभार हटाने को लेकर मेरे कार्यालय में पत्र दिया है, लेकिन ना तो मेरे स्तर से नियुक्ति हुई है और ना ही उनको हटाने का अधिकार है। सीएमओ स्तर से इस मामले में कार्यवाही की जाएगी। डा. दीपक ओहरी, मंडलीय अपर निदेशक, चिकित्सा एवं परिवार कल्याण

- अगर डा. सतीश चंद्रा 300 बेड का प्रभार संभालने में सक्षम नहीं हैं तो उनके पत्र का संज्ञान लेते हुए 20 जनवरी तक उनसे पदभार हटा लिया जाएगा। उनके स्थान पर किसी अन्य चिकित्सक को तैनात किया जाएगा। डा. बलवीर सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी

Edited By: Ravi Mishra